जैवविविधता पंजी और प्रबंधन समिति का होगा निर्माण

जैवविविधता पंजी और प्रबंधन समिति का होगा निर्माण

होमसाइंस काॅलेज में जैवविविधता प्रबंधन समिति को लेकर बैठक

होशंगाबाद। शासकीय गृहविज्ञान महाविद्यालय (Government Home Science College) में बैठक आयोजित हुई। बैठक म.प्र जैव विविधता बोर्ड(MP Biodiversity Board) की परियोजना जिसके अंतर्गत लोक जैवविविधता पंजी(Public Biodiversity Register ) एवं जैवविविधता प्रबंधन समिति( Biodiversity Management Committee) का निर्माण किया जाना है पर हुई। काॅलेज प्राचार्य डाॅ. कामिनी जैन (College Principal Dr. Kamini Jain) ने बताया कि लोक जैवविविधता पंजी एवं जैवविविधता प्रबंधन समिति का निर्माण भविष्य में अपनी जैव संपदा से अवगत कराने एवं जैवविविधता के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। महाविद्यालय में जैवविविधता संबर्धन एवं संरक्षण पर कार्य किए जा रहे है। वर्तमान में लगभग 165 प्रजातियों के पेड पौधे उपलब्ध है जो महाविद्यालय की एक बडी उपलब्धी है। उपरोक्त परियोजना कार्य में महाविद्यालय तकनीकि सहायता समूह के रूप में कार्य करेगा।

जैवविविधता का उद्देश्य
बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मनोज सरयाम ने बताया कि जैवविविधता प्रबंधन समिति जिले में पूर्व से ही कार्यरत है। कुछ ग्रामों में इसका निर्माण किया जाना है। इस कार्य के लिए जिला पंचायत की ओर से आवश्यक सहयोग किया जाएगा। समिति के समन्वयक प्रो. डाॅ. रवि उपाध्याय शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय पिपरिया ने बताया कि उक्त परियोजना का उद्देश्य ग्राम स्तर पर जैवविविधता पंजीयन समिति एवं लोक जैवविविधता पंजी का निर्माण करना है। यह कार्य वन विभाग, कृषि विभाग, वागवानी विभाग, मतस्य विभाग के सहयोग से पूर्ण किया जाएगा। जैव विविधता एक्ट 2002 के अनुच्छेद 44/1 के अंतर्गत जैवविविधता समिति का निर्माण एवं अनुच्छेद 22/6 के अंतर्गत सुनिष्चित किया गया है। अनुच्छेद 44/2 और 3 के तहत जैवविविधता से संबंधित व्यवसायियों से लेवी अथवा शुल्क लिए जाने का प्रावधान है। बैठक में डाॅ. अरूण सिकरवार, परियोजना प्रभारी डाॅ. मनीशचंद्र चैधरी एवं अखिलेश यादव उपस्थित रहे।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: