मध्यप्रदेश के इन जिलों में ओलावृष्टि  के आसार

मध्यप्रदेश के इन जिलों में ओलावृष्टि के आसार

इटारसी। पश्चिमी विक्षोभ ईरान और पड़ोस पर एक चक्रवर्ती पररसंचरण के रूप में अब पूर्वी ईरान और उससे सटे अफगानिस्तान पर औसत समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर स्थित है। मध्यम और ऊपरी क्षोभमंडलीय पछुआ हवाओं में द्रोणिका औसत समुद्री स्तर से 5.8 किमी ऊपर अपनी धुरी के साथ अब मोटे तौर पर लांग के साथ चलती है। दक्षिण राजस्थान और उससे सटे उत्तर गुजरात पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र अब पूर्वी राजस्थान और उससे सटे पश्चिमी मध्य प्रदेश पर स्थित है और औसत समुद्र तल से 1.5 किमी ऊपर तक फैला हुआ है।

उपरोक्त चक्रवाती परिसंचरण पूर्वी राजस्थान और इससे सटे पश्चिम मध्य प्रदेश से उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। उत्तर छत्तीसगढ़, झारखंड और गंगीय पश्चिम बंगाल औसत समुद्र तल से 0.9 किमी ऊपर। 19 से 20 मार्च, 2023 के दौरान मध्यप्रदेश के नर्मदापुरम जिले सहित शहडोल संभाग के जिलों में ओलावृष्टि एवं गरज के साथ वज्रपात तथा 30-40 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने का आरेंज अलर्ट है। कुछ जिलों में कहीं-कहीं गरज के साथ वज्रपात एवं तेज हवा 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे चलने की संभावना है।

राजधानी भोपाल, शहडोल, जबलपुर, नर्मदापुरम, रीवा, सागर, चंबल, ग्वालियर संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर तथा इंदौर, उज्जैन संभागों के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है। शहडोल, संभाग के जिलों के अलावा मंडला, डिंडोरी, बालाघाट, नर्मदापुरम, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, सिंगरौली एवं सिवनी जिलों में कहीं-कहीं ओलावृष्टि एवं गरज के साथ वज्रपात तथा 30-40 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने की संभावना है। सागर, भोपाल, उज्जैन, इंदौर, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में तथा जबलपुर, कटनी, बैतूल, हरदा, रीवा, सतना, सीधी जिलों में कहीं-कहीं गरज के साथ वज्रपात एवं तेज हवा चलने के आसार है।

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के नर्मदापुरम, उज्जैन, भोपाल संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर, जबलपुर, सागर, इंदौर तथा ग्वालियर संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर, शहडोल, चंबल, रीवा व संभागों के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा दर्ज की गई। मप्र के खजुराहो, खकनार, देपालपुर, बदरवास, बुरहानपुर, जावरा, सिलवानी में 3-3सेमी, नेपानगर, नवीबाग, आष्टा, कोलारस, मुलताई, नटरेन, मलाजखंड में 2 सेमी वर्षा दर्ज हुई।

अधिकतम तापमान उज्जैन संभाग के जिलों में काफी बढ़े, जबलपुर संभाग के जिलों में काफी गिरे एवं शेेष संभागों के जिलों में विशेष परिवर्तन नहीं हुआ। भोपाल, ग्वालियर, संभागों के जिलों में सामान्य से कम, सागर, उज्जैन एवं इंदौर संभागोंं के जिलोंं में सामान्य से काफी कम, शेष संभागों के जिलों में सामान्य से विशेेष रूप से कम रहे। प्रदेश का सर्वाधिक अधिकतम तापमान 34.6 डिग्री सेल्सियस राजगढ़ में दर्ज किया।

न्यूनतम तापमानों में शहडोल संभाग के जिलों में काफी गिरे तथा शेष संभागों के जिलो में विशेष परिवर्तन नहीं हुआ। जबलपुर, इंदौर संभागों के जिलों में सामान्य से कम तथा शेष संभागों के जिलों में सामान्य से रहे। प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस नरसिंंहपुर में दर्ज किया।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: