जीवोदय बाल देखरेख संस्था के बच्चों से मिले कलेक्टर

जीवोदय बाल देखरेख संस्था के बच्चों से मिले कलेक्टर

– बच्चों से आत्मीय संवाद कर उनकी जरूरतों को जाना
– बच्चों की शिक्षा और सपनों को पूरा करने के दिए निर्देश
इटारसी। आर्थिक रूप से कमजोर, निराश्रित एवं कोविड महामारी से अपने अभिभावकों को खो चुके बच्चों के पालन पोषण, शिक्षा और उनके सपनों को पूरा करने के लिए हर आवश्यक कदम उठाएं जाए। यह निर्देश कलेक्टर होशंगाबाद नीरज कुमार सिंह (Collector Hoshangabad Neeraj Kumar Singh)ने इटारसी (Itarsi) भ्रमण के दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग एवं बाल देखरेख से जुड़ी संस्था के पदाधिकारियों को दिए।
कलेक्टर श्री सिंह ने शुक्रवार को इटारसी पहुंचकर यहां जीवोदय बाल देखरेख संस्था के बच्चों की शिक्षा, पोषण एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं के बारे में संस्था प्रभारी से जानकारी ली। इस दौरान एसडीएम इटारसी मदन रघुवंशी (SDM Itarsi Madan Raghuvanshi), जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास ललित कुमार डेहरिया (Lalit Kumar Dehria), जीवोदय सोसायटी बालिका गृह के संचालक सिस्टर क्लारा एनिमोटटी (Sister Clara Animotty) सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

श्रेया के उपचार के लिए 40 हजार रुपए स्वीकृत

कलेक्टर ने जीवोदय संस्था के बच्चों से आत्मीय संवाद कर उनकी पढ़ाई एवं भविष्य में बड़े होकर वह क्या बनना चाहते हैं, इसकी जानकारी ली। बच्चों से कहा कि वह खूब पढं़े, स्वस्थ रहें और आगे बढ़े। आपकी शिक्षा और हर जरूरत को पूरा करने के लिए शासन प्रशासन द्वारा हर संभव मदद की जाएगी। इस दौरान संस्था की श्रेया (परिवर्तित नाम) की हाथ की हड्डी टूटने के उपचार में आ रही समस्या जानने पर मौके पर रेडक्रॉस मद से 40 हजार रुपए स्वीकृत कर जिला चिकित्सालय में बेहतर इलाज के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया।

आयुषी को मिलेगा अपना हक

18 वर्षीय बालिका आयुषी (परिवर्तित नाम) ने कलेक्टर श्री सिंह को बताया कि उनके पास किसी भी प्रकार के दस्तावेज न होने के कारण पढ़ाई में समस्या आ रही है। आयुषी ने बताया कि उनके माता पिता का निधन हो चुका हैं। उनका हरदा में मकान है, लेकिन वहां उनका कोई नहीं है। कलेक्टर ने आयुषी सहित सभी ऐसे बच्चे जिनके पास आधार कार्ड नहीं है उनके आधार कार्ड बनवाने के निर्देश दिए। साथ ही हरदा जिला प्रशासन के माध्यम से आयुषी को अपने मकान पर हक दिलाने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देशित किया।

कलेक्टर संग मढ़ई घूमेंगे बच्चे

कलेक्टर श्री सिंह ने संस्था की बालिकाओं से संवाद किया और उनकी इच्छाएं जानी। संस्था के बच्चों द्वारा कलेक्टर श्री सिंह से जम्मू कश्मीर, दिल्ली, मुंबई घूमने की इच्छा जाहिर की। बच्चों ने कलेक्टर एवं संस्था परिवार के साथ पचमढ़ी और मड़ई भी घूमने की इच्छा बताई। जिस पर कलेक्टर श्री सिंह ने बच्चों से कहा कि कोविड काल के बाद उन्हें इन स्थानों पर अवश्य भ्रमण कराया जाएगा। साथ ही वे स्वयं अगले सप्ताह में बच्चों के साथ मड़ई में जंगल सफारी करेंगे।

अभिरुचि अनुरूप बच्चों को कैरियर मार्गदर्शन मिले

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि सिविल सेवा, डॉक्टर, इंजीनियर सहित अन्य सेवाओं में जाने के इच्छुक बच्चों के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी हेतु आवश्यक व्यवस्था के साथ उनकी अभिरुचि अनुरूप कैरियर मार्गदर्शन प्रदान किया जाए।
चाइल्ड लाइन केयर सेंटर के बच्चों से मिले कलेक्टर
जीवोदय बाल देख रेख संस्था के निरीक्षण के बाद कलेक्टर श्री सिंह पोटर खोली स्थित डे केयर सेंटर पर बच्चों से मिलेे। कलेक्टर ने बच्चों के साथ बैठकर उनकी रुचि, पढ़ाई, भोजन, परिवार आदि पर चर्चा की। बच्चों ने पुलिस, आर्मी, डॉक्टर आदि सेवाओं में जाने की इच्छा जताई। कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास को बच्चों की प्राथमिक शिक्षा एवं आगे की पढ़ाई के लिए समुचित व्यवस्थाएं किए जाने के निर्देश दिए।

पोटर खोली के निवासियों की समस्या जानी

कलेक्टर श्री सिंह ने इटारसी के पोटर खोली के निवासियों से चर्चा कर उनकी समस्याएं जानी। उन्होंने पोटर खोली के निवासियों की आवास की समस्या पर एसडीएम को अस्थाई रैन बसेरा तैयार कर वहां सुरक्षा, रहने आदि की व्यवस्थाएं किए जाने के लिए निर्देश दिए। कलेक्टर ने यहां के निवासियों को अनिवार्य रूप से बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित किया।

TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!