बिना अनुमति पुरानी पाइप लाइन बेचने की शिकायत

बिना अनुमति पुरानी पाइप लाइन बेचने की शिकायत

इटारसी। अंत्योदय समिति ग्राम पंचायत तवानगर (Gram Panchayat Tawanagar) के अध्यक्ष भूपेश साहू (Bhupesh Sahu) ने ग्राम पंचायत रानीपुर तवानगर में सिंचाई विभाग की पुरानी पानी की पाइप लाइन (Pipeline) बिना किसी सूचना के, बिना पंचों की सहमति के रातों रात चोरी से बेचने की शिकायत कलेक्टर (Collector) को की है।
उन्होंने बताया कि अंत्योदय समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया था कि पुरानी पानी की पाइप लाइन को निकालकर उनकी गणना कर नियमानुसार कोटेशन (Quotation) बुलवाकर नियमानुसार नीलामी की प्रक्रिया की जायेगी। लेकिन कुछ समय बाद पंचायत सचिव ने बिना किसी पूर्व सूचना के उक्त पाइप लाइन फर्जी ठेकेदार को बुलाकर ट्रक (Truck) के माध्यम से बेचने का कार्य किया जा रहा था लेकिन तवानगर के जिम्मेदार एवं जागरूक नागरिकों ने उक्त करतूत को होते हुये देखा तो उन्होंने सचिव व उक्त फर्जी ठेकेदार से पूछताछ की तो ठेकेदार ट्रक लेकर भाग गया।
उन्होंने जब इसकी जानकारी सचिव से मांगी तो वह हीला हवाला कर गोलमोल जबाव देने लगे और कहा कि हमने सीईओ (CEO) से अनुमति ले ली थी, परमीशन (Permission) की कॉपी मांगी तो कहा कि मौखिक अनुमति ली है। उन्होंने कहा कि जब से तवानगर पंचायत में नल जल योजना सिंचाई विभाग द्वारा पंचायत के हैंड ओवर (Hand over) की है, तब से आज तक लगातार पाइप लाइन कांड चल रहा है, तब से पुराने व अच्छी पाइप लाइन जिनके स्थान पर पंचायत ने नई पीबीसी पाइप लाइन लगा दी है तब से पुरानी पाइप लाइन आये दिन निकाल कर बेची जा रही है। इसकी शिकायत पूर्व में विधायक प्रतिनिधि रीता सिंह ठाकुर (Rita Singh Thakur) ने भी एसडीएम (SDM) इटारसी से की थी जिसकी जांच आज तिक लंबित है।

ये शिकायत भी की गई

– जिस दिनांक से शासन की मंशानुसार ग्राम के विकास के लिये ग्राम अंत्योदय समिति का गठन किया था तब से आज तक के समस्त प्रस्तावों को सचिव ने पंचायत की अलमारी से निकालकर सीईओ केसला के माध्यम से शासन तक नहीं पहुंचाई है। सचिव से पूछे जाने पर कहते हंै कि इस माह सभी प्रस्तावों को पहुंचा दूंगा।
उन्होंने निवेदन किया है कि तवानगर पंचायत सचिव की कार्य प्रणाली संदेहस्पद है, वह दबाव में काम कर रहे हैं और सिंचाई विभाग की पानी की पाइप लाइन को फर्जी तरीके से फर्जी ठेकेदार को बेचे जाने की उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच होना आवश्यक है ताकि शासन के जनहितैषी योजनाओं का एवं पैसों का दुरूपयोग होने से रोका जा सके।

, , , , , , , , , ,
TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!