प्रदेश में कोरोना का रिकवरी रेट 76.1 प्रतिशत हुआ, देश में 16वें स्थान पर प्रदेश

प्रदेश में कोरोना का रिकवरी रेट 76.1 प्रतिशत हुआ, देश में 16वें स्थान पर प्रदेश

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर रूकने का नाम नहीं लें रहा है। हर दिन कोरोना के मरीजों की संख्या बढ रही हैं वहीं इसका रिकवरी रेट 76.1 प्रतिशत हुआ है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि प्रदेश की रिकवरी रेट 76.1 हो गई है। प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या 10 हजार 928 है। तुलनात्मक रूप से देश में प्रदेश 16 वें स्थान पर है। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 4.47 प्रतिशत है। टैस्ट प्रति दस लाख 13 हजार 788 हैं।

इंदौर में सर्वाधिक 227 नए प्रकरण
जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश में सर्वाधिक नए प्रकरण इंदौर में 227 आए हैं। इसके बाद भोपाल में 140, ग्वालियर में 121, जबलपुर में 117, बैतूल में 32, राजगढ़ में 29, अलीराजपुर में 27, रतलाम में 27, रीवा में 25 तथा छतरपुर एवं विदिशा में 24-24 नए प्रकरण आए हैं। शहडोल में गत 7 दिनों की पॉजिटिविटी रेट 6.02 प्रतिशत तथा अनूपपुर की 7.30 प्रतिशत है। इन सभी जिलों पर विशेष ध्यान दिए जाने के मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए। चिकित्सकों की टीम शहडोल मैडिकल कॉलेज भिजवाए जाने के निर्देश दिए गए। दमोह जिले पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। सीहोर जिले को सैम्पलिंग बढ़ाए जाने के निर्देश दिए गए।

बढ़ रहा है होम आइसोलेशन का ट्रैन्ड
प्रदेश में बिना लक्षण वाले कोरोना पॉजीटिव प्रकरणों में होम आइसोलेशन बढ़ रहा है। प्रदेश में अभी 1617 व्यक्ति 15 प्रतिशत होम आइसोलेशन में हैं। इनमें इंदौर में 692, जबलपुर में 297, भोपाल में 141, ग्वालियर में 124, शिवपुरी में 96, उज्जैन में 74, खरगौन में 44, सतना में 24 तथा शेष अन्य जिलों में होम आइसोलेशन में हैं।

निजी अस्पताल न ले पाएं इलाज के लिए अधिक पैसा
इंदौर जिले की समीक्षा में बताया गया वहां कई निजी अस्पतालों में भी कोरोना के इलाज के लिए लोग जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित किया जाए कि निजी अस्पताल मरीजों से इलाज के लिए अधिक पैसे वसूल न कर पाएं। सभी जिले इसे बात पर ध्यान दें।

क्वारेंटाइन सेंटर्स में अच्छी व्यवस्था हो
मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि क्वारेंटाइन सेंटर्स में अच्छी व्यवस्था की जाए। साथ ही जो व्यक्ति होम क्वारेंटाइन एवं होम आइसोलेशन में हैए उनकी निगरानी एंव देखभाल की अच्छी व्यवस्था हो।

मृत्यु दर में उल्लेखनीय गिरावट
एसीएस स्वास्थ्य श्री सुलेमान ने बताया कि प्रदेश की कोरोना मृत्यु दर निरंतर कम हो रही है। 18 से 21 अगस्त के बीच मृत्यु दर 0.6 प्रतिशत रही। प्रदेश की औसत मृत्यु दर 2.34 प्रतिशत है। मुख्यमंत्री चौहान ने मृत्यु दर न्यूनतम करने किए जाने के निर्देश दिए।

फीवर क्लीनिक्स को प्रभावी बनाएं
मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि सभी जिलों में फीवर क्लीनिक्स को और प्रभावी बनाया जाएए जिससे कोई भी व्यक्ति वहां जाकर आसानी से अपनी स्वास्थ्य जाँच, कोरोना टैस्ट आदि करवा सके।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: