अवैध वेंडरिंग रोकने, अंडर ब्रिज का काम चालू करने की मांग की

अवैध वेंडरिंग रोकने, अंडर ब्रिज का काम चालू करने की मांग की

भोपाल मंडल रेल(Bhopal Rail Mandal) उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्य ने लिखा डीआरएम को पत्र

इटारसी। भोपाल मंडल रेल(Bhopal mandal rail) उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्य दीपक हरिनारायण अग्रवाल(Deepka harinarayan agrawal) ने डीआरएम(DRM) को पत्र लिखकर ट्रेनों में सक्रिय अवैध वेंडरों(illegal venders) की ओर ध्यान दिलाते हुए उनकी रोकथाम और नई गरीबी लाइन में बन रहे अंडरब्रिज के कार्य को जल्द से जल्द पूर्ण करने की मांग की है। इसी तरह से नयायार्ड के रेलवे अस्पताल में व्यवस्थाओं सहित कुछ ट्रेनें भी जल्द प्रारंभ करने की मांग की है।

अपने पत्र में अग्रवाल ने कहा कि रेलवे स्टेशन के चारों रूट पर अवैध वेंडर( illegal venders) सक्रिय हैं जो आरपीएफ(RPF) और अन्य की मिलीभगत से सिंडीकेट के रूप में कार्य कर रहे हैं। ट्रेनों में चोरी, मारपीट के लिए भी ये जिम्मेदार होते हैं। पिछले दिनों पिपरिया-इटारसी रेलखंड पर एक चने बेचने वाली महिला से आरपीएफ कर्मी अमीर बामने(Rpf personnel rich balm) ने दुव्र्यवहार किया था जिसकी पूर्व में शिकायत की थी और आपको वीडियो भी भेजा था। आपने कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। अग्रवाल ने कहा कि यह कार्रवाई महिला आरपीएफ कर्मी की उपस्थित में होना चाहिए। वेंडरों से राशि मांगने और पूर्ति न होने पर ऐसी घटनाएं आम हैं। अवैध वेंडरों के झगड़े भी यात्रियों के लिए दुखदायी होते हैं।

अग्रवाल ने कहा कि नई गरीबी लाइन(Garibi line itarsi) का निर्माणाधीन अंडरब्रिज(Underbridge under construction) का कार्य विगत ढाई वर्ष से लंबित है, जहां पहले छोटे घटनाएं होती थीं, अब एक युवा की मौत वहां खोदे गये गड्ढे में गिरने से हो गयी जो अत्यंत लापरवाहीपूर्ण और शर्मनाक है। इससे रेलवे की छवि धूमिल हो रही है। इस कार्य को जल्द से जल्द पूण्र कराएं। यदि कोई बाधा आ रही है तो अवगत कराएं ताकि सांसद, विधायक, नगर पालिका और स्थानीय पुलिस की मदद से उसे दूर किया जा सके।

अग्रवाल ने कहा कि इटारसी में करीब छह हजार रेलकर्मी कार्यरत हैं। वे और उनके परिजन स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में रेलवे अस्पताल पर निर्भर हैं। इसी तरह से ट्रेनों में भी लगभग हर रोज स्वास्थ्य सेवाओं की तत्काल आवश्यकता पड़ती है। रेलवे का स्वयं आ अस्पताल होने के बावजूद यहां संसाधन, विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी बनी हुई है। रेलवे अस्पताल में आईसीयू, आक्सीजन, एम्बुलेंस, आपरेशन थिएटर व दवाईयों की कमी है। कोविड-19 के इस दौर में रेलकर्मियों और जरूरतमंद यात्रियों को भोपाल भेजने के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था, कोविड टेस्ट व जरूरत पर इटारसी-होशंगाबाद के अस्पताल में उनके उपचार एवं आईसोलेशन की व्यवस्था तत्काल की जानी चाहिए। रेलवे स्टेशन पर लॉकअप डिस्पेंसरी, एक स्वतंत्र डाक्टर की नियुक्ति होना चाहिए।

डीआरएम को भेजे पत्र में अपडाउनर्स, छात्र-छात्राओं की समस्याओं का भी उल्लेख है। श्री अग्रवाल ने भोपाल और इटारसी के बीच पंजाबमेल, झेलम व अन्य टे्रनों को शीघ्र प्रारंभ कराने तथा यात्रियों के मंथली पास की तत्काल व्यवस्था करने की मांग भी की है।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: