दशहरा : आतिशबाजी के साथ जला रावण का पुतला

दशहरा : आतिशबाजी के साथ जला रावण का पुतला

– विधायक ने कहा, अयोध्या में जल्द राम मंदिर बनेगा

– कोरोना गाइडलाइन के कारण कम लोग थे मैदान में

– मां दुर्गा, काली की पूजा के बाद किया रावण दहन

इटारसी। कोरोना गाइड लाइन के कारण इस वर्ष गांधी मैदान पर दशहरा का वृहद आयोजन तो नहीं हो सका। लेकिन, करीब दो सौ लोगों की मौजूदगी में रावण दहन (Ravan Dahan) का कार्यक्रम आयोजित किया। इस दौरान मैदान के बाहर से भी लोगों ने रावण दहन देखा। कोरोना गाइड लाइन (Corona Guide line) के कारण लोगों को मैदान में प्रवेश नहीं दिया गया जबकि सैंकड़ों की संख्या में लोग बच्चों को लेकर जश्न देखने पहुंचे थे। आसपास के भवनों पर भी लोगों ने छत पर जाकर आयोजन को देखा।


दशहरा मैदान पर शाम 7 बजे रावण दहन का टाइम निर्धारित किया था। लेकिन, कोरोना काल में रामलीला (Ramleela) नहीं हो सकी तो कुछ परंपराओं को निभाना भी जरूरी थी। अत: दुर्गा चौक की दुर्गा जी (Durga ji, durga chouk) की प्रतिमा और गुरुद्वारा की काली जी (Kali ji, Guruswara) की प्रतिमा को मैदान में लाना आवश्यक था। क्योंकि श्रीराम, लक्ष्मण और हनुमान शक्ति की भक्ति के बाद ही रावण दहन करते हैं। इस परंपरा को निभाया गया। दोनों स्थानों की प्रतिमा आने के बाद पूजा-अर्चना हुई और फिर रावण दहन का कार्यक्रम किया। इस वर्ष रावण का पुतला बहुत छोटा बना था।

जल्द ही श्रीराम मंदिर बनेगा
दशहरा उत्सव के समारोह का संबोधित करते हुए विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा (Dr, Sitasaran Sharma, MLA hoshangabad) ने कहा कि यह उत्सव के माध्यम से हम त्रेता युग की याद करते हैं। आज अन्याय पर न्याय, अधर्म पर धर्म और असत्य पर सत्य की जीत का पर्व है। उन्होंने सभी नागरिकों को दशहरा पर्व की शुभकामनाएं दीं। विधायक ने कहा कि हर वर्ष श्रीराम लीला के मंच से संकल्प लिये जाते थे कि सौगंध राम की खाते हैं, मंदिर वहीं बनायेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वह संकल्प पूरा कर दिया है और जल्द ही अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा। डॉ. शर्मा ने दशहरा मैदान में प्रवेश नहीं कर पाये नागरिकों से क्षमा मांगी कि कोरोना गाइड लाइन के कारण प्रशासन ने कार्यक्रम को सीमित किया है।


श्रीराम का राज्याभिषेक
रावण दहन कार्यक्रम के बाद सभी अतिथियों विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा (Dr, Sitasaran Sharma, MLA hoshangabad),एसडीएम मदनसिंह रघुवंशी (Madan Singh Raghuwanshi, SDM Itarsi) , मुख्य नगर पालिका अधिकारी हेमेश्वरी पटले (Hemeshwari Patle, CMO), एसडीओपी महेन्द्र मालवीय (Mahendra Malviya, SDOP), तहसीलदार तृप्टि पटेरिया (Tripti Pateriya, Tahsildar), नायब तहसीलदार पूनम साहू, ऋतु भार्गव, टीआई रामस्नेह चौहान (Ramsnehi Chouhan, Thana Prabhari Itarsi), गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के प्रधान जसबीर सिंघ छाबड़ा, भाजपा नेता जगदीश मालवीय, भरत वर्मा सहित शहर के अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। पत्रकार प्रमोद पगारे ने कार्यक्रम का संचालन किया।

स्थानीय कलाकार बने पात्र
इस वर्ष रामलीला का मंचन तो नहीं किया गया। लेकिन, अंतिम दिन रावण दहन और अन्य परंपरा निभाने के लिए स्थानीय कलाकारों ने श्रीराम-सीता, लक्ष्मण, हनुमान, भरत और शत्रुघ्न की भूमिका अदा की। इन कलाकारों ने भी माता भगवती की पूजा-अर्चना की और इन्हीं कलाकारो के साथ अतिथियों द्वारा श्रीराम राज्याभिषेक भी किया गया।

सूखा सरोवर मैदान पर अपार दर्शक
गांधी मैदान चूंकि गैलरियों से घिरा है और स्टेडियम होने से प्रशासन दर्शकों को रोक सका। लेकिन, सूखा सरोवर मैदान में हुए दशहरा उत्सव में प्रशासन की कोई तरकीब काम नहीं आयी और यहां रावण दहन को देखने अपार दर्शक पहुंच गये। सूखा सरोवर मैदान में काली प्रतिमा पहुंचने और पूजा अर्चना के बाद रावण वध एवं पुतला दहन का कार्यक्रम हुआ। यहां भी विधायक डॉ सीतासरन शर्मा, एसडीएम मदन सिंह रघुवंशी, सीएमओ हेमेश्वरी पटले सहित नगर पालिका, पुलिस और प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद रहे। यहां सैंकड़ों दर्शक मैदान पर पहुंच गये थे। चूंकि मैदान से सटकर रोड है तो लोगों की आवाजाही भी नहीं रोकी जा सकती थी। यह मैदान पुरानी बस्ती के पास ही है और चारों ओर से खुला है।
CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: