इको फ्रेन्डली होली : उत्सव के माध्यम से दिया पर्यावरण बचाने का संदेश
Eco Friendly Holi: Message of saving environment given through celebration.

इको फ्रेन्डली होली : उत्सव के माध्यम से दिया पर्यावरण बचाने का संदेश

राधा-कृष्ण संग बच्चों ने फूल बरसाकर खेली होली

इटारसी। बचपन ए प्ले स्कूल और नोबल हाईट्स पब्लिक स्कूल (Bachpan A Play School and Noble Heights Public School) में आज बृज की होली का परिदृश्य उतर आया था। स्कूल के बच्चों ने राधा-कृष्ण संग फूलों की होली खेलकर इको फ्रेन्डली होली (Eco Friendly Holi) का संदेश दिया। इस दौरान राधा-कृष्ण की झांकियों ने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। बच्चों ने संदेश दिया कि केमिकल वाले रंगों से बचकर फूलों से होली खेलकर इस परंपरा को बढ़ावा देना समय की जरूरत है। इस दौरान अबीर-गुलाल के साथ स्कूल का माहौल रंगमय हो गया। स्कूल की टीचर्स ने भी नौनिहालों के साथ होली होली मनाकर अपने बचपन को याद किया।


इस दौरान स्कूल प्रबंधन ने बच्चों को बताया कि होली पर्व धार्मिक सद्भाव के साथ भाईचारे का प्रतीक है। स्कूल में फूलों एवं गुलाल की होली खेलते समय बच्चों को रासायनिक रंगों से मानव जीवन और पर्यावरण को होने वाले नुकसान से अवगत कराया। स्कूल संचालक दीपक दुगाया ने बताया कि आज सुबह से स्कूल में बच्चे होली पर्व को देखने और खेलने के लिए उत्साहित थे। सुबह बच्चों को ओडियो-वीडियो के माध्यम से होली किस तरह और क्यों मनाई जाती है दिखाया गया। इस दौरान बच्चों को होली पर पानी की बर्बादी से बचकर सेव वॉटर विषय पर पर पपेट शो और सूखी होली के विषय में भी जानकारी दी गई।


स्कूल हेड मंजू ठाकुर ने बताया कि बच्चों के बीच होली मनाने का हमारा उददेश्य होली को लेकर बच्चों के मन पर सकारात्मक प्रभाव डालना था। साथ ही उन्हें बचपन से ही इको फ्रेंडली होली के प्रति जागरूक करना है। फूलों की होली कार्यक्रम का प्रारंभ राधा कृष्ण की प्रतिमा के साथ ही राधा कृष्ण बने बच्चो को संचालक एवं बच्चों द्वारा फूल और गुलाल लगा कर किया।


बच्चों और टीचर्स ने राधा कृष्ण के साथ फूलों से होली खेली। बच्चों ने आपस में मिलकर गुलाल लगाया और फूलों से होली खेली। फूल और गुलाल से होली खेलते और नाचते बच्चे जहां हैप्पी होली कह कर गले मिले और सेव वॉटर के नारे भी लगाए। कार्यक्रम के अंत में मिष्ठान का वितरण किया गया। इस अवसर पर स्कूल स्टाफ का विशेष सहयोग रहा।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!