BREAK NEWS

मोबाइल पर आ रहे बिजली बिल संबंधी फर्जी मैसेज, अनदेखा करें

मोबाइल पर आ रहे बिजली बिल संबंधी फर्जी मैसेज, अनदेखा करें

इटारसी। मोबाइल (mobile) पर इन दिनों बिजली बिल नहीं भरने और कनेक्शन (connection) विच्छेद करने संबंधी मैसेज (message) आ रहे हैं। यह फर्जी मैसेज (fake message) हैं, उपभोक्ता इनको अनदेखा करें। शहर के लोग ऐसे फर्जी मैसेज से परेशान हैं। बिजली बिल (electricity bill) जमा होने पर भी उनसे मैसेज में बिजली बिल जमा करने के कहा जाता है। एक विशेष नंबर भी दिया जाता है। उस नंबर पर संपर्क करके बिजली बिल न जमा करने पर कनेक्शन काटने की धमकी मिलती है। यह साइबर क्राइम (cyber crime) का एक तरीका है, जिसमें उपभोक्ता के खाते से रकम उड़ाई जा सकती है, अत: ऐसे मैसेज को अनदेखा करना ही सबसे अच्छा उपाय है, क्योंकि बिजली कंपनी (electricity company) इस तरह के मैसेज नहीं भेजती है।
बिजली के बिल को लेकर साइबर अपराधियों (cyber criminals) की टीम सक्रिय है। साइबर अपराधी बिजली बिल के मैसेज भेज कर उपभोक्ताओं को बिल जमा करने के लिए मैसेज और फोन कॉल (phone call) कर रहे हैं। वहीं कनेक्शन काटने की धमकी भी देते हैं। शहर में कई उपभोक्ताओं को एसएमएस (sms), वाट्सएप मैसेज (whatsapp message) मिले हैं, जिसमें जिक्र है कि आपकी बिजली कुछ घंटों के बाद काट दी जाएगी, इसके लिए मोबाइल नंबर विशेष पर संपर्क कर बकाया राशि जमा कराएं।

कंपनी अधिकारी बोले मैसेज फर्जी हैं

विद्युत वितरण कंपनी (Electricity Distribution Company) के अधिकारियों का कहना है कि इस प्रकार के एसएमएस, व्हाट्सएप मैसेज बहुत आ रहे हैं और ये सभी मैसेज फर्जी हैं, इन पर ध्यान नहीं दिया जाए। कंपनी अधिकारियों ने उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे किसी भी मोबाइल नंबर से आए फोन के आधार पर किसी भी मोबाइल नंबर पर बिजली बिल जमा न करें। अपना पिन नंबर भी किसी के साथ साझा न करें। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे अपने बिजली बिलों का नगद भुगतान कंपनी के बिल संग्रह केन्द्र, अथवा अधिकृत भुगतान केन्द्रों एमपी ऑनलाइन (MP Online), कॉमन सर्विस सेन्टर (Common Service Center) पर ही करें। मोबाइल पर किसी भी माध्यम से आए बिजली बिल संबंधित फर्जी मैसेज को अनदेखा करें।

TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!