कौन हैं द्रौपदी मुर्मू जो बन सकतीं राष्ट्रपति जाने सम्‍पूर्ण परिचय …
कौन हैं द्रौपदी मुर्मू जो बन सकतीं राष्ट्रपति जाने परिचय सम्‍पूर्ण...

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू जो बन सकतीं राष्ट्रपति जाने सम्‍पूर्ण परिचय …

देश की दूसरी महिला और पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति बन सकती हैं द्रौपदी मुर्मू जाने सम्‍पूर्ण जानकारी…

द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography)

द्रौपदी मुर्मू

पूरा नाम (Full Name) द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu)
पिताजी का नाम (Father’s Name) बिरांची नारायण टुडू (Biranchi Narayan Tudu)
पति का नाम (Husband Name) श्याम चरण मुर्मू (Shyam Charan Murmu)
जन्म तिथि (Date Of Birth) 20 जून 1958 (आयु 64 वर्ष)
 राजनीतिक पार्टी (political party) भारतीय जनता पार्टी (BJP)
जाति  (Caste) अनुसूचित जनजाति (ST)
धर्म  (Religion) हिंदू (Hindu)
बेटी का नाम (Daughter Name) इतिश्री मुर्मू (Itishree murmu)
भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी 1997

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू (Who is Draupadi Murmu)

द्रौपदी मुर्मू

भारतीय जनता पार्टी ने हाल ही में द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनाया हैं। अगर वह देश की अगली राष्ट्रपति चुन ली जाती हैं। तो वह भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति बनेंगी और उन्हें दूसरी महिला राष्ट्रपति बनने का सौभाग्य प्राप्‍त होगा। अगर वह राष्ट्रपति बनती हैं तो ओडिशा से पहली राष्ट्रपति होंगी। वह एक सामान्य शिक्षक से राजनीति के सर्वोच्च शिखर की ओर बढ़ी हैं।

उनका पूरा जीवन समाज सेवा के प्रति समर्पित रहा हैं। खासकर अुसूचित जनजाति के कल्याण के लिए उन्होंने काफी योगदान दिया हैं। द्रौपदी मुर्मू झारखंड राज्य की पूर्व राज्यपाल रह चुकी हैं और वह पूर्व संवैधानिक पद के लिए चुनाव लड़ने वाली पहली आदिवासी महिला भी हैं। इसके अलावा पूरे भारत में पहली आदिवासी महिला राज्यपाल होने का किताब द्रौपदी मुर्मू के नाम दर्ज हैं।

द्रौपदी मुर्मू का प्रारंभिक जीवन (Early life of Draupadi Murmu)

द्रौपदी मुर्मू

 द्रौपदी मुर्मू का जन्म सन् 1958 में एक आदिवासी परिवार में भारत के उड़ीसा राज्य के मयूरभंज गॉव मे हुआ था।

द्रोपदी मुर्मू की शिक्षा (Draupadi Murmu’s Education)

द्रौपदी मुर्मू

द्रोपदी मुर्मू ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने गॉव के निजी स्‍कूल से प्राप्‍त की और भुवनेश्वर के रामा देवी महिला कॉलेज से इन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई की हैं। ग्रेजुएशन की पढाई पूरी होने के बाद इन्‍हें ओडिशा गवर्नमेंट में बिजली डिपार्टमेंट में जूनियर असिस्टेंट के तौर पर इन्हें नौकरी प्राप्त हुई। इन्होंने यह नौकरी साल 1979 से लेकर के साल 1983 तक की।

बिना सैलरी लिए पढ़ाती थीं द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu Used To Teach Without Taking Salary)

द्रौपदी मुर्मू

राजनीति में आने से  द्रोपदी मुर्मू हले टीचर रही हैं। समाज सेवा के प्रति उनका समर्पण ऐसा रहा हैं। कि रायरंगपुर के श्री अरबिंदो इंटिग्रल एजुकेशन सेंटर में वह बिना सैलरी के पढ़ाती थीं। उनकी राजनीति में पैठ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता हैं।

बिरसा मुंडा कौन थे क्‍यो कहा जाता हैं इन्‍हें भगवान जाने सम्‍पूर्ण जानकारी…

द्रौपदी मुर्मू का परिवार (Draupadi Murmu’s Family)

द्रौपदी मुर्मू

इनके पिताजी का नाम बिरांची नारायण टुडू हैं। और इनके पति का नाम श्याम चरण मुर्मू हैं। इनके दो बेटे थे जो अब इस दुनिया मे नहीं हैं। अब सिर्फ इनकी बेटी हैं जिसका नाम इतिश्री हैं जिसकी शादी द्रौपदी मुर्मू ने गणेश हेम्ब्रम के साथ हुई हैं। इनका व्यक्तिगत जीवन पति और बेटे की मृत्‍यु के कारण ज्यादा सुखमय नहीं रहा।

द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक जीवन (Draupadi Murmu’s political Life)

द्रौपदी मुर्मू

  •  द्रोपदी मुर्मू के राजनीतिक करियर की शुरुआत 1997 में हुई जब उन्होंने पार्षद के रूप में स्थानीय चुनाव जीता। और उसी वर्ष, वह भाजपा के एसटी मोर्चा की राज्य उपाध्यक्ष बनीं।
  • भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़कर मुर्मू ने रायरंगपुर सीट से दो बार जीत हासिल की और सन् 2000 में ओडिशा सरकार में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनी।
  • ओडिशा में भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान वह 6 मार्च, 2000 से 6 अगस्त, 2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार मंत्री रही हैं।
  • साल 2007 में मुर्मू को संयोग से ओडिशा विधानसभा द्वारा वर्ष का सर्वश्रेष्ठ विधायक होने के लिए सम्मानित किया गया था।
  • अगले एक दशक में उन्होंने भाजपा के भीतर कई प्रमुख भूमिकाएँ निभाईं एसटी मोर्चा के राज्य अध्यक्ष और मयूरभान के भाजपा जिलाध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
  • 6 अगस्त, 2002 से मई 16, 2004 तक मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री थीं।
  • ओडिशा की विधान सभा ने उन्हें वर्ष 2007 के सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए नीलकंठ पुरस्कार से सम्मानित किया।
  • उन्हें 2013 में मयूरभंज जिले के लिए पार्टी के जिला अध्यक्ष पद के लिए पदोन्नत किया गया था।
  • मई 2015 में भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें झारखंड के राज्यपाल के रूप में चुना। वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल हैं। वह ओडिशा की पहली महिला और आदिवासी नेता हैं जिन्हें भारतीय राज्य में राज्यपाल नियुक्त किया गया है।
  • राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होना हैं और मतगणना 21 जुलाई को होनी हैं और 29 जून नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख है।

द्रोपदी मुर्मू को प्राप्त पुरस्कार (Draupadi Murmu Received The Award)

द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुरमू को नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए साल 2007 में प्राप्त हुआ था। यह पुरस्कार इन्हें ओडिशा विधानसभा के द्वारा किया गया था।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!