नौतपा :  जाने पंचांग और इन दिनों क्या करें,  क्या न करें (25 मई 2022 से शुरू)
नवतपा :  जाने पंचांग और इन दिनों क्या करें, क्या न करें

नौतपा :  जाने पंचांग और इन दिनों क्या करें,  क्या न करें (25 मई 2022 से शुरू)

-पं. विकास शर्मा (Pandit Vikash Sharma) :

प्रतिवर्ष ग्रीष्म ऋतु में नौतपा प्रारंभ होता है। इस बार नौतपा ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि 25 मई 2022 बुधवार से प्रारंभ होगे

क्या है नौतपा (What is Navatpa)

https://narmadanchal.com/

मई के उतरते सप्ताह में सूर्य और पृथ्वी की दूरी कम होने के कारण सूर्य की तेज किरणें पृथ्वी पर पड़ती हैं जिसका बुरा असर मनुष्य से लेकर पशु-पक्षी और पेड़-पौधों तक पर पड़ता है। जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में गोचर करने लगता है तब नौतपा प्रारंभ होता है। सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करते ही धरती का तापमान तेजी से बढ़ने लगता है। सूर्य इस नक्षत्र में 15 दिनों के लिए आता है। इन पंद्रह दिनों के पहले के 9 दिन सर्वाधिक गर्मी वाले होते हैं। इन्हीं शुरुआती नौ दिनों को नौतपा के नाम से जाना जाता है।

नौतपा 2022 कब से शुरू होगा (Navatpa When To Start)

No Tapa

सूर्य 25 मई बुधवार को 8 बजकर 16 मिनट पर रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा जहां वह 8 जून की सुबह 6 बजकर 40 मिनट तक रहेगा। इस बार सूर्य रोहिणी में 14 दिन तक ही रहेगा।

बारिश की भविष्यवाणी (Rain Forecast in Navatpa)

नौतपा के दौरान सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी पर प्रभाव डालती है। इससे प्रचंड गर्मी होती है तो मानसून में अच्छी बारिश होने के आसार बनते हैं। मान्यता है कि यदि इन नौ दिनों के दौरान ही बारिश होने लगे तो इसे नौपता का गलना माना जाता है। फिर अच्छे मानसून की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। कई ज्योतिषी मानते हैं कि यदि नौतपा के सभी दिन पूरे तपें, तो यह अच्छी बारिश का संकेत होता है।

इस बार नौतपा से पहले ही कुछ क्षेत्रों में बारिश हो चली है जो कि अच्छा संकेत नहीं है। सूर्य, मंगल, बुध और शनि के समसप्तक योग होने से धरती के एक हिस्से में भारी गर्मी पड़ती है। अब नौतपे से ही आशा है कि यदि यह खूब तपा तो भारी बारिश होगी नहीं तपा तो मानसून बिखरा बिखरा रहेगा। यह भी कहा जा रहा है कि नौतपा के आखिरी दो दिन तेज हवा-आंधी चलने व बारिश होने के भी योग हैं।

इन बातों की रखे सावधानियां

  • किसी भी स्थिति में बगैर कुछ खाए घर से न निकलें।
  • खुले शरीर बाहर न निकलें, टोपी पहने, कानों को ढंककर रखें और आंखों पर धूप का चश्मा जरूर लगाएं।
  • एसी से निकलते ही एकदम धूप या गर्मी में न जाएं।
  • हल्का व शीघ्र पचने वाला भोजन करें।
  • नरम, मुलायम, सूती कपड़े पहनें जिससे हवा और कपड़े शरीर के पसीने को सोखते रहे।

नौतपा में ऐसा बिलकुल न करें (Navatpa Don’t Do It)

  • नौतपा के 9 दिनों में आंधी, तूफान की आशंकी बनी रहती है, ऐसे में मांगलिक कार्यों या आयोजन को करने से बचना चाहिए।
  • नौतपा के दिनों में सूर्य की अत्याधिक गर्मी के कारण धरती का तापमान बढ़ जाता है, इस स्थिति में यात्रा करने से बचें।
  • नौतपा में अत्यधिक भोजन करना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता।  तेल, मसाला, गरिष्ठ भोजन करने से बचना चाहिए।
  • इस समय में मांसाहार या तामसिक भोजन सेहत पर प्रतिकूल असर डाल सकता है। इसलिए नौतपा में यह नहीं करना चाहिए।

नौतपा में ऐसा कर सकते हैं (Can Do This In Navatpa)

  • नौ तपा  में आसानी से पचने वाला हल्का और सुपाच्य भोजन करें।
  • नौ तपा  में जल का अधिक सेवन करें, ताकि शरीर में जल की कमी न हो।
  • नौ तपा में उन फलों का सेवन और दान करें, जिसमें जल की मात्रा अधिक होती है।
  • यदि आपको से पशु पक्षियों प्यार है तो इस समय उनके लिए छत पर या खुले में दाना पानी रखें।
  • ज्येष्ठ माह में पानी का दान करने से पुण्य प्राप्त होता है, सूर्य देव प्रसन्न होते हैं इसलिए घर के बाहर मिट्ठी के घड़े में पानी रखें और लोगों को ठंडा पानी पिलाएं।
  • तरबूज, खरबूज, खीरा इन फलों में पानी की मात्रा काफी होती है, इसलिए इनका सेवन करें।
  • दही, मठ्ठा, जीरा छाछ, जलजीरा, लस्सी, ठंडाई जरूर पिये।
  • प्रतिदिन प्याज खाएं और साथ में भी रखें।
  • ग्लुकोज का सेवन करते रहे और अपनी ऊर्जा का इस्तेमाल अनावश्यक न करें।
  • नौ तपा में पेड़ पौधों को गर्मी से बचाने छाव और उचित पानी की व्यवस्था करें।

 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!