जून के महीने में घूमने के लिए भारत की सबसे अच्छी जगह में से एक है ये

जून के महीने में घूमने के लिए भारत की सबसे अच्छी जगह में से एक है ये

होशंगाबाद।  मध्य प्रदेश राज्य के होशंगाबाद जिले में स्थित पचमढ़ी जून के महीने में घूमने के लिए भारत की सबसे अच्छी जगहें में से एक है। यदि आप जून के महीने में मध्य भारत में घूमने की जगहें सर्च कर रहे है तो यकीनन पचमढ़ी आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है। पचमढ़ी मध्य प्रदेश (Pachmarhi Madhya Pradesh) ही नही बल्कि भारत के सबसे लोकप्रिय व घूमे जाने वाले हिल्स स्टेशनो (Hills Stations) में से एक है। यह खूबसूरत की वादियों में खोया हुआ अद्भुद हिल्स स्टेशन है जो चिलचिलाती गर्मी से राहत दिलाने के लिए टॉप टूरिस्ट प्लेसेस में से एक है। यह खूबसूरत हिल स्टेशन जंगल में गुफा, चित्रों, दृश्यों, झरनों और झीलो के लिए प्रसिद्ध है जो हर साल हजारों पर्यटकों को अपनी तरफ अट्रेक्ट करती है खासकर जून के महीने से शुरू होने वाली गर्मियों से लेकर जून के महीने तक। यदि आप जून के लास्ट में यहाँ घूमने आते है तो मानसून की पहली बारिश का मजा भी ले सकते है। यदि आपने पचमढ़ी (Pachmarhi) की यात्रा के लिए ट्रेन का चुनाव किया है तो हम आपको बात दें कि पचमढ़ी के लिए सबसे नजदीकी रेल्वे स्टेशन पिपरिया है। जोकि पचमढ़ी पर्यटक स्थल से मात्र 54 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

पचमढ़ी के लोकप्रिय दर्शनीय पर्यटक स्थल
धूपगढ़
बी फाल
अप्सरा विहार
जटाशंकर
पनार पानी
पांडव गुफा
चोरागढ़ मंदिर
रजत प्रपात
बड़े महादेव
महादेव मंदिर
राजेन्द्रगिरी सनसेट पॉइंट
प्रियदर्शनी पॉइंट
हांड़ी कोह
जमुना जल प्रपात
महादेव गुफा
सतपुड़ा नेशनल पार्क

पचमढ़ी में करने के लिए एक्टिविटीज: ट्रेकिंग, जिप्सी राइड, फोटोग्राफी पर्यटक स्थलों की यात्रा आदि।

बी फॉल पचमढ़ी मध्य प्रदेश की जानकरी


बी फॉल (Be fall) भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के होशंगाबाद जिले में पचमढ़ी हिल स्टेशन में स्थित एक बहुत खूबसूरत जलप्रपात है। इस झरने को जमुना प्रपात वॉटरफॉल भी कहा जाता है। पचमढ़ी सतपुड़ा की पहाड़ियों पर स्थित एक छोटा मगर आकर्षित शहर हैं और इसी की गोद में बी फॉल जलप्रपात स्थित हैं। पचमढ़ी का बी फॉल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। बी फॉल को जमुना प्रपात के नाम से भी जाना जाता हैं। पचमढ़ी में बहुत सारे झरने हैं जिनमें से सबसे खास और लोकप्रिय झरना बी फॉल हैं। बी फॉल झरना यहां की घाटी के नीचे एक प्राकृतिक जल प्रपात है।

इस झरने से वर्ष भर धारा प्रवाहित होती रहती हैं और इसका पानी पहाड़ी से 35 मीटर की गहराई में गिरता हैं। यह पचमढ़ी शहर से लगभग 2.5 से 3 किलो मीटर की दूरी पर हैं। पचमढ़ी हिल स्टेशन पर बहुत सारे झरने हैं, लेकिन यहां का बी फॉल झरने का उन तमाम झरनों की अपेक्षा अधिक प्रसिद्ध होने का एक प्रमुख कारण इसके पानी का अत्यधिक ऊंचाई गिरना हैं। जो कि पचमढ़ी हिल स्टेशन घूमने आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र हैं। इस झरने का पानी शहर के लोगो के लिए पीने के काम भी आता हैं।

बी फॉल पर क्या क्या कर सकते हैं
पचमढ़ी के बी फॉल पर आप ढेर सारी मस्ती कर सकते हैं क्योंकि यह स्थान पचमढ़ी के जंगल के बीच में स्थित हैं, यहां आप अपनी मर्जी के मालिक हैं, ऊंचाई से गिर रहे झरने के पानी के नीचे आप स्नान कर सकते हैं, पहाड़ियों पर चढ़ने का अनुभव प्राप्त कर सकते हैं, बी फॉल के आसपास कई पर्यटक स्थल भी हैं आप उनका भी लुत्फ उठा सकते हैं। बी फॉल का शहद सबसे अच्छा माना जाता है, हालाकि इसमें मिठास इतनी अधिक नही होती हैं लेकिन सेहत के लिए बहुत अच्छा होता हैं तो आप यहां के शहद को भी चख सकते हैं।

आप कहां-कहां घूम सकते हैं
जटाशंकर मंदिर पचमढ़ी
पचमढ़ी के पर्यटक स्थलों में से एक जटा शंकर गुफा यहां का पवित्र स्थान माना जाता है। जब भस्मासुर ने भगवान शिव से वरदान पाने के बाद इसकी पुष्टि करने के लिए भोले नाथ पर ही आक्रमण कर दिया और भगवान शिव ने अपने आप को भस्मासुर से बचाने के लिए इस गुफा में शरण ली थी। यह एक प्राकृतिक शिवलिंगम की गुफा हैं जो एक विशाल चट्टान की छाया के नीचे हैं। इसमें विधमान पत्थरों का गठन पौराणिक सौ मुख वाले सर्पनाग से मैल खता है। इस गुफा का नाम जटाशंकर भगवान शिव के उलझे हुए बालों से मैल खाता हैं, इसलिए इसका नाम जटाशंकर रखा गया।

पांडव केव्स पचमढ़ी
पचमढ़ी की पांडव गुफा पर्यटकों को अत्यधिक आकर्षित करती हैं माना जाता है कि जब पांडवों का निर्वाशन हुआ था। तब उस दौरान पांचों पांडू पुत्र इस गुफा में आकर रूखे थे और अपने वनवास का कुछ समय यह बिताया था। लेकिन अब यह गुफा एक संरक्षित स्मारक बन चुकी है। यहां की पांच गुफाएं बौद्ध भिक्षुओं के लिए भी आश्रय स्थल बन गई थी और इसके बाद बोद्धों द्वारा इस स्थान को एक धार्मिक स्थान माना गया था।

धूपगढ़ पचमढ़ी
सतपुड़ा पहाड़ी पर सबसे ऊंचा पॉइंट बिंदु धूपगढ़ हैं, जिसकी ऊंचाई 1,352 (4,429 फीट) मीटर हैं। यह मध्य-प्रदेश राज्य के पचमढ़ी में सतपुड़ा की पहाड़ी पर स्थित सबसे ऊंचा स्थान हैं। धुपगढ़ से सूर्योदय और सूर्यास्त का एक अद्भुत नजारा देखने को मिलता हैं। हालाकि इस स्थान तक पहुंचना इतना आसन नही क्योंकि इसके मार्ग में कई झरने और बड़ी चट्टानों से होकर गुजरना पड़ेगा। इस बिंदु तक ट्रैकिंग द्वारा ही पहुंचा जा सकता जोकि कठिन हैं लेकिन असंभव नही हैं।

अप्सरा विहार पचमढ़ी
बी फॉल देखने के बाद आप अप्सरा विहार देख सकते हैं। पचमढ़ी के घने जंगल के अंदर अप्सरा विहार एक गहरा और शांत झरना हैं। जोकि 30 फीट की ऊंचाई से गिरता है और नीचे ठंडे पानी का एक कुंड बनाता है। यह पर्यटकों के लिए पिकनिक मानाने और छुट्टियां में घूमने जाने के लिए एक अच्छा स्थान हैं।

हांडी खोह पचमढ़ी
हांडी खोह नामक स्थान मध्य-प्रदेश के खूबसूरत पहाड़ों पर घने जंगलों के बीच में स्थित 300 फिट की ऊंचाई पर एक खूबसूरत जगह हैं। इस स्थान का सम्बन्ध भगवान शिव के साथ जुड़ा हुआ हैं। माना जाता हैं कि एक दुष्ट राक्षस और भगवान शिव के बीच हुए लड़ाई में इस स्थान का जल सूख गया था और यह स्थान हांड़ी (वर्तन) के रूप में परिवर्तित हो गया था। हांडी खोह पर्यटकों के लिए एक आकर्षित स्थान हैं और यहां दूर-दूर से पर्यटक आते रहते हैं।

रजत जलप्रपात (बड़ा झरना)
गुप्त महादेव पचमढ़ी
बड़ा महादेव पचमढ़ी
रीछा ग्रह
महादेव हिल
सतपुड़ा रास्ट्रीय उद्यान
प्रियदर्शनीय पॉइंट
चौरागढ़ मंदिर
राजेंद्र गिरी सनसेट पॉइंट
डचेस फॉल
पचमढ़ी पहाड़ी

 

 

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: