मप्र में योजनाओं पर बेहतर तरीके से अमल हुआ: मोदी

मप्र में योजनाओं पर बेहतर तरीके से अमल हुआ: मोदी

लैंड डिजिटाइजेशन में सराहनीय कार्य कर अग्रणी बनकर उभरा मध्यप्रदेश

प्रधानमंत्री ने मप्र के 1 लाख 71 हजार ग्रामीणों को बांटे अधिकार अभिलेख

होशंगाबाद/हरदा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कहा कि मध्यप्रदेश गजब है और देश का गौरव भी। साथ ही मध्यप्रदेश में गति भी है और विकास की ललक भी। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) के नेतृत्व में प्रदेश की जनता के हित में योजनाओं को जमीन पर उतारने दिन-रात एक कर बेहतर तरीके से लागू किया जा रहा है। यह जब-जब मैं देखता हूं मुझे बहुत आनंद आता है। मध्यप्रदेश ने खास अंदाज में स्वामित्व योजना में भी बेहतर काम किया है। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश लैंड डिजिटाइजेशन (Madhya Pradesh Land Digitization) के क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर अग्रणी बनकर उभरा है।
प्रधानमंत्री आज स्वामित्व योजना (ownership plan) में मध्यप्रदेश के 19 जिलों के 3 हजार गांव के एक लाख 71 हजार ग्रामीणों को वर्चुअली अधिकार अभिलेखों का वितरण कर संबोधित कर रहे थे। अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की। हरदा जिला मुख्यालय पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्रियों सहित मध्यप्रदेश के मंत्री भी शामिल हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने अधिकार अभिलेखों का वितरण कर हरदा, डिंडौरी और सीहोर जिले के अधिकार अभिलेख प्राप्त हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद भी किया।

गांवों को आर्थिक मजबूती देगी योजना
प्रधानमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को जमीन का मालिकाना कागज आसानी से मिल रहा है। नागरिकों को आबादी की भूमि पर मालिकाना हक देकर उन्हें सशक्त और आत्म-निर्भर बनाया जा रहा है। मेरा विश्वास है कि मध्यप्रदेश में जल्द ही सभी गांवों में अधिकार अभिलेख मिल जाएंगे। स्वामित्व योजना के जो लाभ आज दिख रहे हैं, वह देश के बहुत बड़े अभियान का हिस्सा है। यह गांवों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाएगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश के सभी गांवों में शीघ्र ही अधिकार अभिलेख मिल जायेंगे। अनेक तरह के भूमि विवादों से मुक्ति मिलेगी।

ग्रामों की आर्थिक मजबूती की ठोस योजना
प्रधानमंत्री ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान जब मुख्यमंत्री बने थे, तो उन्होंने सबसे पहले गरीब कल्याण योजना (Gareeb kalyaan yojana) के माध्यम से जनसेवा की नई शुरूआत की थी। उनके नेतृत्व में विभिन्न क्षेत्रों में टेक्नालॉजी के उपयोग के साथ कार्य हो रहे हैं। स्वामित्व योजना के लाभ, जो आज दिखाई दे रहे हैं, वे एक बड़े राष्ट्रीय अभियान का ही हिस्सा है। ग्रामों की आर्थिक मजबूती के लिये यह ठोस योजना है। गृह निर्माण के लिये ऋण की प्राप्ति भी इससे आसान हो जाएगी। बैंकिंग व्यवस्था का लाभ जरूरतमंद लोगों को आसानी से प्राप्त हो सकेगा।

किसानों को मिले क्रेडिट कार्ड
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किसान क्रेडिट योजना (Kisan credit yojna) ने किसानों को राहत पहुंचाई है। दो करोड़ से अधिक किसानों को बैंक से बिना गारंटी के ऋण की राह आसान हुई है। करीब 15 लाख करोड़ रूपये की राशि मुद्रा योजना के माध्यम से पहुँची है। इसी तरह करीब 8 करोड़ बहनें स्व-सहायता समूहों से जुड़ी हैं, इन्हें जन-धन खाते से भी लाभ मिला है। अब महिला स्व-सहायता समूहों को ऋण में दोगुनी राशि प्राप्त हो रही है। सरकार ने 80 करोड़ नागरिकों के लिये नि:शुल्क अनाज की जो व्यवस्था की, उसमें मध्यप्रदेश के किसानों का महत्वपूर्ण योगदान है।

गांव वालों ने ड्रोन को समझा मिनी हेलीकॉप्टर
संवाद के दौरान प्रधानमंत्री मोदी को हरदा जिले के ग्राम हडिय़ा निवासी पवन कुमार ने बताया कि गांव में जब ड्रोन आया था, तो लोग आश्चर्यचकित रह गये थे। गांव वालों ने इसका नाम छोटा हेलीकॉप्टर रख दिया था। बाद में इस ड्रोन की उपयोगिता की जानकारी मिली। पवन की इस बात को प्रधानमंत्री श्री मोदी ने उत्सुकता के साथ सुना और पूछा कि आपको कार्ड प्राप्त होने में कोई दिक्कत तो नहीं आई। पवन ने बताया कि उसे बिना समस्या के कार्ड मिल गया है।

आज का दिन ऐतिहासिक: मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है क्योंकि आज के दिन ही नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के रूप में 20 वर्ष का कार्यकाल पूर्ण हो गया है। इस ऐतिहासिक अवसर पर प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के हितग्राहियों को अधिकार अभिलेख प्रदान किये जा रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश का सम्मान विश्व में बढ़ा है। उनके कार्यकाल में देश की करोड़ों महिलाओं को उज्जवला योजना के माध्यम से चूल्हे के धुएं से मुक्ति मिली है। जन-धन योजना से देश में करोड़ों लोगों के बैंक खाते खोले हैं और मुद्रा योजना के तहत 29 करोड़ लोगों को व्यवसाय स्थापित करने के लिये बिना गारंटी के बैंक से ऋण दिलाया गया है। स्वामित्व योजना लागू होने से ग्रामीणों को भूमि के अभिलेख उपलब्ध होंगे, इन अभिलेखों के आधार पर अब ग्रामीणजन बैंक से घर बनाने या दुकान खोलने के लिये ऋण भी ले सकेंगे।

सौर ऊर्जा से रोशन आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण
मुख्यमंत्री चौहान ने हरदा जिले में सौर ऊर्जा से रौशन हुए 380 आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने हरदा जिले की विकास गाथा पुस्तिका का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बांस मिशन के अंतर्गत तीन हितग्राहियों पवन कुमार भायरे निवासी सिराली, गजराज सिंह निवासी लौरा तथा प्रेमनारायण रायखेरे निवासी सनगाव को बांस पौधे की अनुदान राशि का वितरण किया।
कृषि मंत्री पटेल (Agriculture Minister Patel) ने कहा कि ग्रामीण संपति धारकों की जिस संपत्ति का मूल्य अभी सरकारी अभिलेख में शून्य था, वह लाखों में हो जायेगा और छोटी से छोटी संपत्ति के धारक ग्रामीण स्वामित्व योजना के माध्यम से लोग लखपति बन जायेंगे। ग्रामीणों को अभी तक उनकी संपत्ति पर बैंक ऋण नहीं देती थी। इस योजना के लागू हो जाने से अब ग्रामीणों को बैंक से सम्पत्ति पर ऋण व जमानत की सुविधा मिलने लगेगी। स्वामित्व योजना से ग्रामीणों को सही मायने में अब आर्थिक आजादी मिलेगी। राजस्व मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के तहत आबादी सर्वे से ग्रामीणों को उनकी सम्पत्ति के अधिकार अभिलेख उपलब्ध हो जायेंगे। साथ ही प्रत्येक सम्पति धारक को सम्पत्ति का स्वामित्व प्रमाण-पत्र मिल जायेगा। हरदा जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, वन मंत्री डॉ. विजय शाह, सांसद दुर्गादास उइके सहित विधायक सहित अन्य बड़ी संख्या में नागरिक भी मौजूद थे।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!