स्वच्छता दूतों का सम्मान, प्रदर्शनी को मिली खूब प्रशंसा

स्वच्छता दूतों का सम्मान, प्रदर्शनी को मिली खूब प्रशंसा

इटारसी। स्वच्छ भारत मिशन में आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत स्वच्छता दूतों एवं अपशिष्ट उद्यमियों का सम्मान आज 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर यहां कवि भवानी शंकर मिश्र संस्कृति भवन (ऑडिटोरियम) में किया। इस दौरान नर्मदांचल ग्रुप के सहयोग से स्वच्छता पर आधारित अनुपयोगी वस्तुओं से बनी कलाकृतियों की प्रदर्शनी भी लगायी गयी जिसे जिसने भी देखा खूब सराहा। कार्यक्रम के अतिथियों को प्रदर्शनी में प्रदर्शित चीजें भी खूब भायी। प्रदर्शनी में करीब एक दर्जन लोगों ने अपने द्वारा कबाड़ से जुगाड़ करके बनायी कलाकृतियां लाकर रखीं थी। स्वच्छता में इनके योगदान को सराहा और नगर पालिका ने इनका सम्मान भी किया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि नगर पालिका में विधायक प्रतिनिधि भाजपा के वरिष्ठ नेता जगदीश मालवीय (Senior leader Jagdish Malviya), पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष पंकज चौरे (Former Municipality President Pankaj Chourey), भाजपा जिला महामंत्री मुकेशचंद्र मैना (BJP District General Secretary Mukeshchandra Maina), भाजपा के नगर मंडल अध्यक्ष जोगिन्दर सिंह (BJP Municipal Board President Joginder Singh), पुरानी इटारसी मंडल अध्यक्ष मयंक महतो, पूर्व सभापति राकेश जाधव, नगर महामंत्री राहुल चौरे, अनुसूचित जाति मोर्चा अध्यक्ष मनजीत कलोसिया, नगर पालिका के स्वच्छता निरीक्षक आरके तिवारी सहित अनेक स्वच्छता दूत और अपशिष्ट उद्यमी मौजूद थे।


स्वागत और अध्यक्षीय उद्बोधन मुख्य नगर पालिका अधिकारी हेमेश्वरी पटले (CMO Hemeshwari patle) ने दिया। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत हम यह कार्यक्रम कर उन स्वच्छता सैनिकों का सम्मान कर रहे हैं जिनके बिना शहर की स्वच्छता और सुंदरता की कल्पना ही नहीं की जा सकती है। इनके सफाई में योगदान के कारण ही शहर में स्वच्छता बनी रहती है। इनका सम्मान करके हमें खुशी हो रही है। आज गांधी जी और शास्त्री जी की जयंती पर हम इन स्वच्छता सैनिकों को सम्मानित करके गौरव का अनुभव कर रहे हैं।


मुख्य अतिथि जगदीश मालवीय ने कहा कि सम्मान केवल एक दिन की बात नहीं बल्कि ऐसे स्वच्छता सैनिकों का सम्मान तो हमेशा होते रहना चाहिए। चाहे हम रोड संगमरमर की बना दें और नालियां ग्रेनाइट की। लेकिन, यदि उनकी सफाई न हो तो शहर की स्वच्छता की कल्पना ही नहीं की जा सकती है। नगर पालिका के स्वच्छता में नंबर यदि आते हैं तो केवल स्वच्छता सैनिकों की कर्मठता के कारण। उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल में जब सब अपने घरों के भीतर थे, आप लोगों ने ही जोखिम उठाते हुए न सिर्फ शहर को स्वच्छ रहा बल्कि लोगों की सुरक्षा का दायित्व भी निभाया। अजा मोर्चा के अध्यक्ष मनजीत कलोसिया ने कहा कि जब सारा शहर सो रहा होता है, ये स्वच्छता सैनिक सुबह 5 बजे उठकर शहर की सफाई में जुट जाते हैं। आज इनका सम्मान करने से कार्यक्रम सार्थक हो रहा है। जैसे बार्डर पर सैनिक दुश्मन से लड़कर नागरिकों की रक्षा करते हैं, वैसे ही स्वच्छता सैनिक गंदगी से लड़कर नागरिकों की सुरक्षा करते हैं। उन्होंने नगर पालिका के सफाई अमले में महिला कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने का निवेदन किया।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!