रेत उत्खनन कंपनी और ग्रामीणों में विवाद, मारपीट

रेत उत्खनन कंपनी और ग्रामीणों में विवाद, मारपीट

इटारसी/सिवनी मालवा। होशंगाबाद जिले में रेत खनन (Sand mining) कर रही कंपनी आरकेटीसी के कर्मचारियों और शिवपुर टप्पा तहसील के ग्राम रीछी के ग्रामीणों में बीती रात विवाद के बाद आज सुबह से ग्रामीणों ने कंपनी के रेत के ट्रक रोक लिए और सड़क पर आंदोलन किया। सूचना मिलने पर मौके पर सिवनी मालवा एसडीएम (Seoni Malwa SDM), एसडीओपी और शिवपुर थाना प्रभारी पहुंचे और ग्रामीणों को समझाईश दी।
मिली जानकारी के अनुसार कल रात ग्रामी रीछी के युवक विवेक सिंह सोलंकी का डंपर चालकों से विवाद हो गया था। इस दौरान डंपर के साथ चल रही जीप में से कुछ लोगों ने उतरकर विवेक को जबरदस्ती गाड़ी में बिठाया और साथ ले गये। उस वक्त विवेक अपनी लेबर को छोडऩे जा रहा था। जैसे ही ग्रामीणों को यह खबर पता चली तो वे गुस्से में आ गये।

अपने आफिस ले गये थे
विवेक का कहना है कि वह रात को लेबर को घर छोडऩे जा रहा था। इसी दौरान तेज रफ्तार डंपर को देख उसने डंपर चालक से धीमे चलाने को कहा। इस पर डंपर चालक ने डंपर रोका और विवाद पर उतर आया। इस बीच डंपर के साथ चल रही जीप में से कुछ लोग उतरे और उसे जबरदस्ती अपने जीप में बिठाकर शिवपुर ले गये। उन्होंने वहां अपने आफिस में उसे बंद करके रखा और रात में ही शिवपुर थाने ले गये। थाना प्रभारी ने उसे घर जाने का कहा और कर्मचारियों को भी कहा कि वह मामले को देख लेंगे, आप लोग जाओ। इसके बाद वह वहां से अपने घर आ गया।

झूठा मामला बनाने की कोशिश
विवेक सोलंकी ने बताया कि उस पर डंपर चालक से 55 हजार रुपए छीनने का झूठा मामला बनाने का प्रयास किया जा रहा था। वह किसी तरह गांव आया और ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। सुबह ग्रामीण एकत्र हुए और आरकेटीसी कंपनी की इस मनमानी के खिलाफ एकजुट होकर रास्ता रोक लिया। ग्रामीणों को इस दौरान सड़क पर आंदोलन किया और एक भी डंपर नहीं गुजरने दिया। सूचना मिलने पर एसडीएम अखिल राठौर, शिवपुर थाना प्रभारी संजीव पवार, भाजपा नेता शंभू सिंह भाटी, कांग्रेस के राधेश्याम पटेल भी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाईश दी।

इनका कहना है…
ग्रामीणों और कंपनी कर्मचारियों के बीच विवाद का सुबह पता चला है। हम एसडीएम और एसडीओपी के साथ मौके पर पहुंचे थे। पता चला है कि ग्रामीणों के साथ मारपीट की गई है। अब तक कोई शिकायत नहीं आयी है। शिकायत आने पर कार्रवाई की जाएगी।
संजीव पवार (Sanjeev Pawar, SHO)

विवाद जानकारी मिलने पर गांव पहुंचे थे तो पता चला कि ग्रामीण आंदोलन कर रहे हैं। उनको समझाईश दी गई है। हमने कहा कि शिकायत करें, पुलिस कार्रवाई करेगी। लेकिन, लॉ एंड आर्डर की स्थिति बनने दें।
अखिल राठौर (Akhil Rathore, SDM)

मैं लेबर को घर छोडऩे जा रहा था, डंपर तेज चलाने से मना किया तो जीप में से करीब 10-12 लोग उतरे और मुझे जीप में बिठाकर ले गये। उन्होंने मेरे साथ मारपीट की और रात में शिवपुर थाने में छोड़कर चले गये। वे मुझ पर झूठा मामला दर्ज कराने की कोशिश में भी थे।
विवेक सोलंकी, ग्रामीण

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!