विधायक ने अधिकारी से बात की, टल गयी समस्या

विधायक ने अधिकारी से बात की, टल गयी समस्या

– एलकेजी का ट्रांसफार्मर शिफ्टिंग की थी बिजली कंपनी की योजना
इटारसी। द ग्रेन्ड एवेन्यू कालोनी से बिजली विभाग ट्रांसफार्मर निकालकर सिवनी मालवा ले जाने वाला था, कालोनी के निवासियों को जानकारी लगी तो उन्होंने इसका विरोध किया और विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा को इसकी जानकारी दी। डॉ. शर्मा स्वयं कालोनी पहुंचे और बिजली विभाग के अधिकारी से बात की। डॉ. शर्मा ने भी कहा कि यहां से ट्रांसफार्मर निकालकर ले जाना ठीक नहीं है। विधायक से बातचीत के बाद बिजली विभाग ने फिलहाल अपना कार्यक्रम टाल दिया है। माना जा रहा है कि विधायक इस विषय पर कंपनी के एमडी से बातचीत करेंगे।
कालोनी के निवासी शिरीष कोठारी ने बताया कि यहां कम दाब होने का कहकर नया ट्रांसफार्मर निकालकर ले जा रहे थे और यहां तीन वर्ष पुराना कोई ट्रांसफार्मर लगाने की योजना थी, जो विधायक डॉ. शर्मा ने अधिकारी से बात की तो फिलहाल टाल दी गई है। इस मामले में विधायक डॉ. शर्मा ने कंपनी के एमडी से बात करने का आश्वासन दिया है।

यह है मामला

कालोनी के निवासियों का कहना है कि कालोनी के पास बिजली विभाग का सब स्टेशन स्थित है। सभी निवासियों ने अंशदान करके जनभागीदारी से भविष्य की आवश्यकता को देखते हुए उच्चकोटी का ट्रांसफार्मर और अन्य उपकरण लगाये हैं। कंपनी ने इसे बनाने में कोई खर्च नहीं किया है। यहां 8 मेगावाट का ट्रांसफार्मर लगा है जिससे सभी को बिजली मिलती है और सभी समय पर बिल का भुगतान भी करते हैं और यहां से बिजली चोरी भी नहीं हो रही है। लेकिन, कंपनी यहां का 8 मेगावाट का ट्रांसफार्मर निकालकर सिवनी मालवा में कहीं स्थापित करना चाहती है, जिसका हमने विरोध किया है।

निवासियों की संख्या बढ़ेगी

कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि अभी कालोनी को उच्च क्षमता वाले ट्रांसफार्मर की जरूरत नहीं है, क्योंकि यहां इतना भार नहीं है, इस पर कालोनी के निवासियों का कहना है कि लोगों के प्लाट हैं और धीरे-धीरे लोग मकान बनाते जा रहे हैं, जिससे यहां भार भी बढ़ जाएगा। जल्द ही यहां की संख्या दोगुनी हो जाएगी। वर्तमान में 250 परिवार के 1100 लोग यहां निवास करते हैं, संख्या बढ़ेगी तो बिजली की खपत बढऩे पर कम दाब का ट्रांसफार्मर कोई काम का नहीं रहेगा।

इनका कहना है…
उच्च कार्यालय की प्लानिंग के अनुसार ही काम किया जा रहा था। ट्रांसफार्मर को लगे चार वर्ष हो चुके हैं और यह अब कंपनी की संपत्ति है, हमें दूसरी जगह मूंग की फसल के लिए दाब बढ़ाने के लिए इसे शिफ्ट करना था, विरोध होने पर हमने इसे शिफ्ट नहीं किया है। आगे उच्चाधिकारियों के निर्देश पर ही कुछ होगा।
पूनम तुमराम, उपमहाप्रबंधक मप्रमक्षेविविकं

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!