डॉ.भीमराव आम्बेडकर की जयंती मनाने एकजुट हुए संगठन

डॉ.भीमराव आम्बेडकर की जयंती मनाने एकजुट हुए संगठन

इटारसी। अनुसूचित जाति, जनजाति, सामाजिक संगठनों की एक बैठक व संगोष्ठी अजय अहिरवाल (Ajay Ahirwal) के निवास पर हुई। बैठक में डॉ.भीमराव आम्बेडकर (Dr. Bhimrao Ambedkar) जयंती मनाने की रूपरेखा तय की गई।

इस दौरान अनुसूचित जाति, जनजाति पर हो रहे अन्याय, अत्याचार, गोंडवाना रतन हीरालाल मरकाम (Hiralal Markam) की प्रतिमा क्षत-विक्षत करन, खरगोन जिले में अनुसूचित जाति वर्ग की महिला के साथ मंदिर में भेदभाव, टीकमगढ़, छतरपुर जिले व अन्य जगह दलित, आदिवासी समाज की बारात में दूल्हे को घोड़ी पर बैठने पर जो विवाद हुए हैं, सभी पर नाराजी व्यक्त की गई। संगोष्ठी में सामाजिक बंधुओं ने बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की जयंती को भव्य रूप से मनाने तन, मन, धन से सहयोग करन कहा। इस अवसर पर अहिरवार समाज संघ राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. जगदीश सूर्यवंशी, वाल्मीकि महापंचायत प्रदेश उपाध्यक्ष किशोर मैना, मेहर गढ़वाल समाज से अशोक साकले, मनोज बामने, कुचबंदिया समाज के अध्यक्ष जगवीर राजवंशी, बंशकार धानुक समाज के अध्यक्ष अरविंद बुढ़ाना, खटीक सोनकर समाज से रामशंकर सोनकर, संत रैदास यूथ क्लब अध्यक्ष कृष्ण कुमार कटारे, अहिरवार समाज संघ पूर्व अध्यक्ष विनोद लोगरे, मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष कन्हैयालाल बामने, पूर्व जनपद सदस्य पहलाद आठनेरे, बौद्ध महासभा के प्रतिनिधि प्रहलाद निकम, मेहरा गांव के पूर्व उपसरपंच पूरन मेषकर, झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ जिला उपाध्यक्ष अनूप गांचले, कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष नारायण सिंह वर्मा, राधेश्याम अहिरवार,सहित अनेक समाजों के प्रतिनिधि उपस्थित हुए। आभार आदिवासी छात्र संघ के प्रदेश सचिव आकाश कुशराम ने व्यक्त किया।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!