प्रगति का मार्ग प्रशस्त करता है, संस्था का परिवेश

प्रगति का मार्ग प्रशस्त करता है, संस्था का परिवेश

– शासकीय कालेज सुखतवा (Government College Sukhtawa) में स्थापना दिवस पर एलुमिनी मीट
इटारसी। संस्था का अकादमिक परिवेश एवं पाठ्येतर गतिविधियां विद्यार्थियों के जीवन में प्रगति का मार्ग प्रशस्त करती हैं,उक्त उद्-गार म.प्र.शासन उच्च शिक्षा विभाग के विश्व बैंक परियोजना के अंतर्गत महाविद्यालय के स्थापना दिवस पर आयोजित एलुमिनी मीट (Alumni Meet) के अवसर पर संस्था से पास आउट (pass out) विद्यार्थी अंकित यादव ने महाविद्यालय में आयोजित एलुमिनी मीट में पूर्व एवं वर्तमान छात्रों के मिलन समारोह में व्यक्त किये।मुख्य अतिथि विधायक प्रतिनिधि अजय शंकर वाजपेई, सुनील राठौर, दीपक मालवीय, डॉ.सीपी सिंह, गणपत उइके एवं ग्राम पंचायत सरपंच श्रीमती सरिता उइके विशेष रूप से उपस्थित थी। अध्यक्षता प्राचार्य डॉ.एलएन पाराशर ने की। एलुमिनी मीट में ही अपने अनुभव शेयर करते हुए महाविद्यालय के पूर्व छात्र दीपांशु पाराशर ने बताया कि रिजल्ट मायने नहीं रखता, प्रोसेस मायने रखती है। प्रोसेस से जो सीख मिलती है, वही जीवन में काम आती है। प्राचार्य डॉ. पाराशर ने कहा कि पुराने एवं नये छात्रों का मिलन अनुभव एवं सीख का वह मिश्रण है जो विद्यार्थी के भविष्य को एक नवीन ऊंचाइयां प्रदान करने में सहायता प्रदान करता है।
इस अवसर पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति भी दी गई तथा वर्ष में विद्यार्थियों द्वारा अर्जित उपलब्धियों पर पुरस्कार वितरण किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में वार्षिक उत्सव प्रभारी डॉ.मंजु मालवीय, विश्व बैंक प्रभारी शरद राय, सांइस प्रदर्शनी प्रभारी डॉ.नीता राजपूत ,डॉ.सौरव तिवारी, डॉ.हिमांशु चौरसिया,डॉ.वेद प्रकाश भारद्वाज, डा.पूर्णिमा अतुलकर, श्रीमती संध्या उपाध्याय, राधाशीष पांडे, प्रवीण कुशवाहा, सतीश ठाकरे, धीरज गुप्ता, सतीश पाली, नीरज बिदुआ, आलोक पांडेय, राकेश अहिरवार, शकुन भलावी का विशेष योगदान रहा। आभार डॉ.कामधेनु पटोदिया ने व्यक्त किया।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!