तैयारी : शांति-सौहार्द से त्योहार मनाने हुए महत्वपूर्ण निर्णय

तैयारी : शांति-सौहार्द से त्योहार मनाने हुए महत्वपूर्ण निर्णय

इटारसी। पंडित भवानी शंकर मिश्र ऑडिटोरियम (Pandit Bhavani Shankar Mishra Auditorium) में  नवरात्रि, दशहरा और ईद मिलादुन्नबी त्यौहार पर होने वाली व्यवस्था को बताने शांति समिति की बैठक आयोजित हुई। बैठक में मुख्य रूप से नगर पालिका अध्यक्ष पंकज चौरे,  एसडीएम मदन सिंह रघुवंशी, एसडीओपी महेंद्र सिंह चौहान, नगर पालिका उपाध्यक्ष निर्मल सिंह राजपूत, टीआई रामस्नेही चौहान, बिजली विभाग के प्रबंधक डेलन पटेल, डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल के अधीक्षक राकेश चौधरी मौजूद रहे। इस अवसर पर देवी स्थापना समिति के सदस्य, पार्षद, पत्रकार और शहर के नागरिक मौजूद रहे।

बैठक में यह लिए गए निर्णय:

  • नगर पालिका परिषद द्वारा आयोजित श्री राम लीला एवम दशहरा उत्सव पर गांधी मैदान में शाम 7:30 बजे रावण दहन और सूखा सरोवर में 8:30 बजे रावण दहन होगा।
  • जिस क्षेत्र में ज्यादा प्रतिमा बैठी हो और मार्किट में नो व्हीकल जोन होगा जिससे पैदल चलने वालो को सुविधा होगी।
  • बिजली व्यवस्था के लिए अलग से मीटर लगवाने होंगे। अंदर के दुर्गा पंडाल के लिए 1500 और मेन रोड पर दुर्गा पंडाल के लिए 2500 रूपये देने होंगे।
  • बिजली का मीटर लगवाने  के लिए तीन दिन का समय दिया जायेगा, चौथे दिन समिति अध्यक्ष के नाम पंचनामा बनाया जायेगा।
  • मूर्ति विसर्जन भी एक ही दिन हो, भारतीय सनातन परंपरा भी यही कहती है।
  • शासकीय अस्पताल में जुलूस के दिन इमरजेंसी में अतिरिक्त स्टाफ होगा।
  • छोटी प्रतिमाओं के लिए मेहरागांव की नदी पर पर्याप्त जल और बिजली की व्यवस्था होगी।
  • समिति के संचालक डीजे ढोल अभी से बुक कर ले। यदि तय समय पर विसर्जन नहीं होता है तो प्रशासन विधि विधान से प्रतिमाओं का विसर्जन करेगा।
  • बारिश को देखते हुए लाइट के लिए अच्छी क्वालिटी के वायर का प्रयोग करें जिससे दुर्घटना न हो, खुले तारों का इस्तेमाल न करें।
  • प्रतिमा पूर्व में रखे जाने वाले स्थानों पर ही रखें, नए स्थान पर रखने के लिए प्रशासन से अनुमति लें।
  • दुर्गा पंडाल में थाना का नम्बर और बीट का नंबर जरुर रखें।
  • दुर्गा पंडाल ऐसा लगे की सड़क पर चलने वाला आवागमन बाधित न हो।
  • दुर्गा उत्सव समिति अपने वॉलिंटियर के नामों की लिस्ट थाने में दें।
  • दुर्गा पंडालों में रात के वक्त समिति के दो सदस्यों का सोना, रुकना अनिवार्य होगा। पुलिस आकर जांच करेगी।
  • दुर्गा पंडालों पर उत्सव के समय होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम रास्ता अवरुद्ध करके ना हो। यह सुनिश्चित हो कि खाली प्लॉट या आस पास के मैदान पर प्रोग्राम हो।
  • दुर्गा पंडालों पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम रात 10 बजे तक समाप्त करें।
  • दुर्गा उत्सव समिति अपने ऐसे वॉलिंटियर हर समय तैयार रखें ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो और जो व्यवस्थाओं को संभाल सके।
  • मूर्ति विसर्जन में धार्मिक गाने और भजन बजाएं जाए, अन्य तरह केअश्लील संगीत का उपयोग ना हो।
  • जुलूस में सिर्फ ऐसे लड़के हो जो समिति के सदस्य नियंत्रित कर सके। आवारा तत्वों को शामिल ना करें।
  • जुलूस को एक ही स्थान पर बहुत ज्यादा समय न रोके।
  • जुलूस में शराब पीकर कोई भी ना आए यह सुनिश्चित समिति के कार्यकर्ता करें।
  • डीजे पर मधुर संगीत बजे, कानफोड़ू संगीत न हो। यदि तेज बजते हुए पाया जाएगा तो जब्त कर लिया जाएगा।
  • पुलिस की अपनी व्यवस्था मजबूत होगी, पुलिस हर जुलूस में होगी और चौक चौराहे पर भी होगी।
  • ईद मिलादुन्नबी का जुलूस तय रूट से ही निकाला जाए। इसमें  कार्यकर्ता अपने साथियों को व्यवस्थित करेंगे।
  • जयस्तंभ से आरएमएस चौक तक सिंगल वे में जुलूस निकलेगा।
  • ईद मिलादुन्नबी के जुलूस,डीजे के सारे नियम वहीँ होंगे जो देवी विसर्जन के हैं।
CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!