रोटी बैंक : गरीबों की भूख मिटाने के 8 वर्ष पूर्ण
Roti Bank: 8 years of eradicating the hunger of the poor.

रोटी बैंक : गरीबों की भूख मिटाने के 8 वर्ष पूर्ण

इटारसी। सोशल मीडिया ग्रुप अपनी इटारसी चेटिंग के साथ ही सामाजिक कार्यों को भी बखूबी अंजाम दे रहा है। ग्रुप ने 8 वर्ष पूर्व रोटी बैंक की शुरुआत की थी जो आज भी अनवरत है। इस सेवा में रोटियां एकत्र कर गरीब, बुजुर्गों को रात के वक्त खिलाकर उनकी भूख शांत की जाती है। ग्रुप के सदस्य रोज रात को रोटियां और सब्जी का वितरण करता है। लगातार 8 वर्ष से बिना रुके ये काम जारी है।


भूख से व्याकुल गरीब और बुजुर्गों के लिए अपनी इटारसी का रोटी बैंक (Roti Bank, Itarsi) एक बड़ा सहारा बन गया है। सोशल मीडिया ग्रुप अपनी इटारसी (Social media group Apni Itarsi) द्वारा इस मकसद के साथ, कि अपने शहर में कोई गरीब भूखा न सोए, अपनी इटारसी ग्रुप ने यह रोटी बैंक शुरु किया है। आठ वर्ष बीत चुके हैं। 4 मार्च को इटारसी के रेलवे स्टेशन पर ग्रुप के सदस्य स्वयं और समाज के सहयोग से गरीबों, यात्रियों को रोटी खाना खिलाया। अपनी इटारसी ग्रुप (Social media group Apni Itarsi) के एक सदस्य के मन में रोटी बैंक शुरु करने का ख्याल आया था। इस सदस्य के इस ख्याल का सम्मान करते हुए अपनी इटारसी ग्रुप के अनेक सदस्य सहमत हुए और रोटी बैंक की शुरुआत हो गई। हरेक सदस्य ने अपने घर से दो से चार रोटी लाकर रेलवे स्टेशन के बाहर बैठे गरीब बुजुर्गों, बच्चों और बेरोजगार युवाओं को रोटी और सब्जी बांटना शुरू किया। यह खाना शाम के समय उन गरीबों को बांट दिया जाता है जो भूखे सोते हैं। वक्त गुजरने के साथ सहयोग करने वालों की संख्या बढ़ी। पहले कुछ लोगों का पेट भरता था, अब रोटी बैंक से पेट भरने वालों की संख्या एक सैंकड़ा से भी अधिक हो गयी है।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!