वैज्ञानिक भाषा है संस्कृत, सभी को पढऩा चाहिए

वैज्ञानिक भाषा है संस्कृत, सभी को पढऩा चाहिए

सरस्वती स्कूल में संस्कृत भाषा प्रबोधन वर्ग का शुभारंभ
इटारसी। संस्कृत भारती मध्य भारत प्रांत (Sanskrit Bharati Madhya Bharat Province) द्वारा आयोजित किए जा रहे आवासीय संस्कृत भाषा प्रबोधन वर्ग (Residential Sanskrit Language Enlightenment Class) का शुभारंभ संस्कृत भारती के अखिल भारतीय महामंत्री श्रीश देव पुजारी तथा अन्य अतिथियों ने दीप प्रज्वलन एवं माल्यार्पण से किया।
कार्यक्रम में अतिथि नर्मदापुरम जिला पत्रकार संघ (Narmadapuram District Journalists Association) के अध्यक्ष प्रमोद पगारे, जिला संघ चालक पवन अग्रवाल, संस्कृत भारती के प्रांत संगठन मंत्री नीरज दीक्षित, संस्कृत भारती न्यास के मंत्री विजय ढाले, प्रांत कार्यालय प्रमुख रघुनंदन सिंह रघुवंशी, विभाग संयोजक संतोष व्यास तथा पुरुषोत्तम तिवारी भी उपस्थित रहे। श्री पुजारी ने कहा कि संस्कृत वैज्ञानिक भाषा है और वर्तमान समय में यह अपने उत्कर्ष को प्राप्त कर रही है। उन्होंने कहा कि विज्ञान के छात्र हों अथवा तकनीकी के छात्र हों या कोई अन्य विषय के उन सब को संस्कृत अवश्य पढऩा चाहिए, ताकि शास्त्रों में निहित लोक कल्याणकारी ज्ञान का शोध करके जनहित में उसका अनुप्रयोग संभव हो सके। संस्कृत के इस वर्ग में सामान्य जन संस्कृत बोलना सीख पाएंगे तथा संस्कृत शास्त्रों से परिचित होंगे। इस कार्यक्रम में परिसर में सभी व्यक्ति संस्कृत में बोल रहे थे, संचालन संस्कृत में चल रहा था। कल्याण मंत्र एवं प्रार्थना के साथ उद्घाटन कार्यक्रम संपन्न हुआ।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!