नर्मदा जयंती पर खास खबर- सीएम को भेंट करना था अनाज से बनी मां नर्मदा की तस्वीर

नर्मदा जयंती पर खास खबर- सीएम को भेंट करना था अनाज से बनी मां नर्मदा की तस्वीर

इटारसी। एक किसान को ओडीसा (Odisha) के सेंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक (Sand Artist Sudarshan Patnaik) की तरह अनाज से तस्वीर बनाने का शौक है। हाल ही में उन्होंने मां नर्मदा (Mother Narmada) की तस्वीर बनायी है जिसमें गेहूं, चावल, पसाई धान का चावल, खसखस, राजमा, कोदों आदि का प्रयोग किया है। वे यह तस्वीर नर्मदा जयंती (Narmada Jayanti) के खास मौके पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) को देना चाहते थे, लेकिन अचानक स्वास्थ्य बिगड़ जाने से वे नर्मदा जयंती के कार्यक्रम में जाने में असमर्थ हैं।समीपस्थ ग्राम सुपरली (Village Superly) के किसान योगेन्द्र सिंह सोलंकी (Farmer Yogendra Singh Solanki) खास मौके पर उसी तरह से अनाज से तस्वीर बनाते हैं, जैसे उड़ीसा के सुदर्शन पटनायक रेत से तस्वीर बनाते हैं। हाल ही में श्री सोलंकी ने नर्मदा जयंती के खास अवसर के लिए अनाज के दानों से मां नर्मदा की तस्वीर बनायी है, वे इसे नर्मदा जयंती के अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को देना चाहते थे, लेकिन अचानक उनका स्वास्थ्य खराब होने के कारण वे नर्मदा जयंती के कार्यक्रम में जाने में असमर्थ हैं। लगभग ढाई सौ ग्राम अनाज के दाने से उन्होंने करीब 8 दिन में मां नर्मदा का सुंदर चित्र तैयार किया है।

पहले भी बना चुके हैं कई तस्वीर

योगेन्द्र सिंह सोलंकी इससे पूर्व भी कई राजनेताओं, कवियों सहित अन्य तस्वीरें अनाज के दानों से बना चुके हैं। इससे पूर्व उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi), केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (Union Agriculture Minister Narendra Singh Tomar), धीरूभाई अंबानी (Dhirubhai Ambani), हरिवंश राय बच्चन (Harivansh Rai Bachchan), मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दुबई के प्रिंस (Prince of Dubai), रूस के राष्ट्रपति (Russia President) के अलावा सिखों के गुरु गुरुनानक देव (Guru Guru Nanak Dev), साईंबाबा (Saibaba) की तस्वीरें भी बनायी हैं।

उद्देश्य यह बताया

किसान योगेन्द्र सिंह सोलंकी बताते हैं कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है और अनाज का महत्व समझाने के लिए वे इस तरह के काम करते हैं। उन्होंने अनाज से तस्वीर बनाने का जुनून पाल रखा है। वे अनाज से बनायी तस्वीरों की एक प्रदर्शनी लगाना चाहते हैं जिससे प्राप्त रकम से वे एक ऐसी मशीन बनाना चाहते हैं जो बोरवेल (Borewell) में गिरे बच्चों को निकालने के काम आये। अर्थाभाव के कारण वे अपने सपने को पूरा नहीं कर पा रहे हैं।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!