ट्रेन के इंजन पर पत्थर मारने वाला विक्षिप्त पकड़ाया, भाई को सौंपा

ट्रेन के इंजन पर पत्थर मारने वाला विक्षिप्त पकड़ाया, भाई को सौंपा

इटारसी। अहमदाबाद-बरौनी एक्सप्रेस (Ahmedabad-Barauni Express) के इंजन (Engine) में पत्थर मारने वाला शख्स पकड़ा गया। यह मानसिक विक्षिप्त था, जिसकी संपूर्ण जांच उपरांत उसे उसके परिजनों को सौंप दिया है। घटना में एक लोको पायलट (Loco Pilot) घायल हुआ था।
गौरतलब है कि इटारसी-टिमरनी पगढाल (Itarsi-Timarni Pagdhal Stations) स्टेशनों के मध्य किमी नंबर 696/14 पर गाड़ी संख्या 19483 के इंजन पर पत्थर मारकर लोको पायलट को घायल करने वाले मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति को पकड़ कर उसके परिजनों को सुपुर्द किया।

ऐसा था मामला

विगत 18 सितंबर 2022 को गाड़ी संख्या 19483 अहमदाबाद-बरौनी एक्सप्रेस के इंजन पर एक व्यक्ति के द्वारा पत्थर मारकर कांच टूटने व लोको पायलट के घायल होने की सूचना पर उप निरीक्षक (Sub Inspector) धर्मेंद्र आरपीएफ आउटपोस्ट बनापुरा (RPF Outpost Banpura) अपने स्टाफ के घटनास्थल पर पहुंच थे। उप स्टेशन प्रबंधक (Deputy Station Manager) पगढाल से संपर्क किया जो जानकारी मिली कि किमी 696/14 पर उक्त गाड़ी के लोको पायलट को नीले रंग की चेक शर्ट पहने किसी व्यक्ति ने पत्थर मारकर शीशा तोड़ दिया। घटना में कांच लगने से लोको पायलट घायल हो गया। गेट नंबर 214 पर तैनात गेटमैन से जानकारी लेकर बताए अनुसार होशंगाबाद-हरदा हाईवे (Hoshangabad-Harda Highway) पर पत्थर मारने वाले व्यक्ति की तलाश की और इसे इसी मार्ग से पकड़कर पूछताछ की। वह मानसिक रूप से विक्षिप्त लगने पर फोटो भेजकर इटारसी स्टेशन (Itarsi Station) पर लोको पायलट उमाशंकर, मुख्यालय भोपाल (Bhopal) से पत्थर मारने वाले व्यक्ति की पुष्टि की और उसे लेकर आउटपोस्ट बानापुरा आए। मानसिक विक्षिप्त व्यक्ति के पास से मिले आधार कार्ड में उसका नाम नारायण सिंह पुत्र दुलीचंद उम्र 34 वर्ष निवासी शिवपुर, तहसील सिवनी मालवा, जिला नर्मदापुरम (Narmadapuram) मिला। उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिवनी मालवा (Community Health Center Seoni Malwa) में जाकर परीक्षण कराया। डॉ. शेखर रघुवंशी ने व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं होने के बारे में अपना लिखित ओपिनियन दिया। बाद में उक्त पकड़े गए व्यक्ति के परिजनों को सूचना दी। परिजनों ने बताया गया कि पिछले 5-6 वर्षों से मानसिक रूप से विक्षिप्त है और इधर उधर घूम कर खानाबदोश रूप से जीवन व्यतीत कर रहा है। उक्त मामले में गाड़ी संख्या 19483 पगढाल स्टेशन पर समय 15:10 बजे से 15:30 बजे तक खड़ी हुई और सहायक लोको पायलट को प्राथमिक उपचार उप स्टेशन प्रबंधक पगढाल द्वारा दिया गया। मामले में आईपीसी की धारा 84 के अनुसार मानसिक विक्षिप्त व्यक्ति द्वारा किया गया कृत्य अपराध नहीं होगा। अत: उक्त पकड़े गए व्यक्ति को उसके बड़े भाई नंदकिशोर प्रजापति को आउटपोस्ट पर बुलाकर सुपुर्द किया गया।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!