यहाँ की दाल और गुड़ बना प्रदेश की पहचान

यहाँ की दाल और गुड़ बना प्रदेश की पहचान

ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिए बैठक हुई

गाडरवाडा। अब नरसिंहपुर जिले की पहचान तुअर दाल और गुड बनेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के सपने को पंख देने के लिए नरसिंहपुर जिले में भी समुचित प्रयास किए जा रहे हैं। ब्रांडिंग और मार्केटिंग बैठक में एक जिला एक उत्पाद में गाडरवाडा की तुअर दाल और करेली के गुड को मध्यप्रदेश की विशिष्ट पहचान बनाने के लिए सतत प्रयास जारी हैं। कलेक्टर द्वारा कृषि वैज्ञानिकों और क्षेत्र के अन्य महत्वपूर्ण व्यक्तियों के साथ मिलकर प्रयास किए जा रहे हैं। बताया जाता है कि यहां की गाडरवारा तुअर दाल अपने सौंधेपन एवं स्वाद के लिए जानी जाती है। करेली का गुड़ भी स्वाद और सेहत के लिए अपनी विशिष्ट पहचान रखता है। एक जिला-एक उत्पाद योजना और सभी के प्रयासों से इसकी ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग को गति मिली है।

इन उत्पादों की ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग के लिए जिला प्रशासन द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। तुअर दाल की मार्केटिंग के लिए गाडरवारा आर्गेनिक फार्मर्स प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड ने गाडरवारा तुअर दाल के विक्रय एवं अवलोकन के लिये स्टाल लगाया जा रहा है। स्टाल पर अलग- अलग वजन के पैकिट एवं बैग में गाडरवारा तुअर दाल को रखा जा रहा है। इंदौर एवं भोपाल के बाजार में पूर्व में भी स्टाल लगाकर इन उत्पादों को रखा गया था। इंदौर एवं भोपाल में लोगों ने गाडरवारा तुअर दाल एवं करेली गुड़ को बहुत पसंद किया। यहाँ तक की अतिरिक्त मात्रा में इन उत्पादों को विक्रय के लिए इंदौर एवं भोपाल बुलवाया गया। इन उत्पादों की बड़े पैमाने पर ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग होने से जिले के किसानों को इसका लाभ मिलेगा और वे अधिक उत्पादन के लिए प्रेरित होंगे।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!