Indian Railway : कर रहे हो ट्रेन का सफर, तो जान लें इन नए नियमों को 
These new rules will have to be followed while traveling by train

Indian Railway : कर रहे हो ट्रेन का सफर, तो जान लें इन नए नियमों को 

अब रेलवे ने एक बार फ‍िर ट्रेन में सफर करने के न‍ियमों में बदलाव क‍िया है। भारतीय रेलवे की तरफ से कई न‍ियमों में समय-समय पर बदलाव होता रहता है। अगर आप अक्‍सर ट्रेन से सफर करते रहते हैं तो इन न‍ियमों के बारे में जान लें।

अब नहीं होगी नींद डिस्‍टर्ब (sleep will no longer be disturbed)

रेलवे की तरफ से बनाए गए ये न‍ियम रात में सफर करने वाले यात्र‍ियों पर लागू होंगे। रेलवे बोर्ड को अक्‍सर श‍िकायत म‍िलती रहती थी क‍ि रात में सफर करने वालों को अक्‍सर सह यात्र‍ियों के कारण नींद लेने में परेशानी होती है। इन शिकायतों में अक्सर यात्री साथ वाली सीट पर मौजूद पैसेंजर के मोबाइल पर तेज आवाज में बातें करने या म्‍यूजिक सुनने, किसी ग्रुप की रात में जोर-जोर से बातें करने या मस्ती करने होती है। ऐसे भी कई मामले सामने आए जिसमें रेलवे का स्‍कॉर्ट या मेंटीनेंस स्‍टॉफ गश्‍त के दौरान तेज-तेज बातें करता है. इससे भी यात्रियों की नींद खराब होती है। रात में लाइट जलाने पर भी अक्सर विवाद होता था।
इन्हीं समस्या से छुटकारा दिलाने नए न‍ियमों को तत्‍काल प्रभाव से लागू क‍िया जा चुका है। नए न‍ियमों के अनुसार आपके आसपास कोई भी सहयात्री (Train Passenger) मोबाइल पर तेज आवाज में बात नहीं कर सकेगा और न ही तेज आवाज में गानें सुन सकेगा। यात्रियों की तरफ से शिकायत मि‍लने पर रेलवे ऐसे लोगों के ख‍िलाफ कार्रवाई करेगा।

शिकायत का होगा समाधान (complaint will be resolved)

इस न‍ियम के तहत परेशानी होने पर यद‍ि यात्री की तरफ से श‍िकायत की जाती है तो ट्रेन स्‍टॉफ को मौके पर जाकर समस्‍या का समाधान करेगा। श‍िकायत का समाधान नहीं होने पर ट्रेन स्‍टाफ की जवाबदेही होगी।

ट्रेन में रात 10 बजे के बाद लागू होंगे ये न‍ियम (These rules will be applicable after 10 pm in the train)

– कोई भी यात्री मोबाइल पर तेज आवाज में बात नहीं करेगा या तेज म्‍यूजिक नहीं सुनेगा।
– रात में नाइट लाइट को छोड़कर सभी लाइट बंद करनी हैं, ताक‍ि किसी भी यात्री की नींद खराब न हो।
– ग्रुप में चलने वाले यात्री ट्रेन में देर रात तक बातें नहीं कर पाएंगे। सह यात्री द्वारा शिकायत करने पर कार्रवाई हो सकती है।
– रात में चेकिंग स्‍टॉफ, आरपीएफ, इलेक्ट्रीशियन, कैटरिंग स्‍टॉफ और मेंटीनेंस स्‍टाफ शांतिपूर्ण ढंग से काम करेंगे।
– 60 साल से ऊपर के बुजुर्गों, दिव्‍यांगजन और अकेली महिलाओं को रेल स्‍टाफ जरूरत पड़ने पर तत्‍काल मदद करेगा।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!