नपा इटारसी भगवामय, पिछड़ी कांग्रेस, विजयी जुलूस निकाला

Must Read

  • – अध्यक्ष पद 8 के मुकाबले 26 मतों से जीता
  • – उपाध्यक्ष पद पर 21-13 वोट से मिली जीत
  • – जीत के शिल्पकार डॉ. शर्मा बोले सभी पार्षद हमारे
  • – विधायक ने कहा, बिना भेदभाव विकास किया जाएगा

इटारसी। नगर पालिका इटारसी (Municipality Itarsi) में हर पद पर भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) के प्रत्याशी जीते हैं। कांग्रेस (Congress) कहीं भी मुकाबले में नहीं दिखी। अलबत्ता अध्यक्ष पद पर छह पार्षदों की क्रास वोटिंग (Cross Voting) को उपाध्यक्ष पद में अंतर कम करके केवल एक कर लिया, जिसे अपनी उपलब्धि मानकर कांग्रेसी खुश रहे। हालांकि अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और अपील समिति (Appeal Committee) के दोनों सदस्यों के चुनाव में भाजपा आसानी से जीत गयी।
सभी पदों पर आसान जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी ने विजयी जुलूस निकाला। नगर पालिका कार्यालय के सामने से होता हुआ जुलूस भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) के सामने से अग्रसेन चौराह (Agrasen Square) सब्जी मंडी (Sabzi Mandi) होकर प्रमुख मार्गों से निकला। जुलूस में इस जीत के शिल्पकार विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा (MLA Dr. Sitasaran Sharma), रणनीतिकार पीयूष शर्मा (Piyush Sharma) के अलावा जिला भाजपा अध्यक्ष माधवदास अग्रवाल, वरिष्ठ पार्षद शिवकिशोर रावत, नवनिर्वाचित अध्यक्ष पंकज चौरे, उपाध्यक्ष निर्मल सिंह राजपूत, कल्पेश अग्रवाल, राहुल प्रधान, अपील समिति के दोनों सदस्य मनीष अग्रवाल और राजेश्री धूरिया नगर मंडल अध्यक्ष जोगिन्दर सिंह, पूर्व अध्यक्ष डॉ.नीरज जैन, जिला महामंत्री मुकेशचंद्र मैना, पुरानी इटारसी मंडल अध्यक्ष मयंक मेहतो और अन्य महिला पार्षद खुली जीप में रहे। जुलूस का जगह-जगह स्वागत हुआ। जुलूस में विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा के जयकारे लगते रहे। इस दौरान डॉ. पीएम पहारिया, सांसद प्रतिनिधि राजा तिवारी, नगर महामंत्री राहुल चौरे सहित पार्टी के अनेक नेता और कार्यकर्ता सक्रिय रहे।

पूरे ढाई साल बाद भारतीय जनता पार्टी ने फिर से नगर सरकार बनायी है। पार्टी के वार्ड 20 के पार्षद पंकज चौरे नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद के लिए चुन लिये गये हैं। उन्होंने कांग्रेस की श्रीमती तुलसा वर्मा को 8 के मुकाबले 26 मतों की करारी मात दी। उपाध्यक्ष पद पर भाजपा के वार्ड 2 के पार्षद रिटायर्ड फौजी (Retired Army) निर्मल सिंह राजपूत ने कांग्रेस की श्रीमती रमा चंद्रवंशी को 21-13 मतों के अंतर से हराया। अपील समिति में भी भाजपा की मनीषा आशुतोष अग्रवाल और राजेश्री रमेश धूरिया चुनी गयीं। उन्होंने कांग्रेस की गीतांजलि चौधरी और मीना साहू को हराया।

कांग्रेस के छह पार्षद टूटे

नगर पालिका अध्यक्ष के चुनाव में कांग्रेस के छह पार्षद टूटे हैं। सुबह से भाजपा में सेंधमारी कर अपना अध्यक्ष निर्वाचित होने की प्रबल अपेक्षा पाले कांग्रेसी काफी उत्साहित लग रहे थे। जब अध्यक्ष पद का परिणाम 26-8 से भाजपा के पक्ष में आया तो उनका सारा उत्साह ठंडा पड़ गया और धीरे-धीरे सभी कांग्रेसी वहां से निकल गये। अध्यक्ष के चुनाव के बाद उपाध्यक्ष के लिए लंच के समय का अंतराल रहा। सिंधी कालोनी (Sindhi Colony) स्थित धर्मशाला (Dharamsala) में कांग्रेसियों का भोजन था, वहां उपाध्यक्ष पद की रणनीति बनी। अध्यक्ष पद के प्रत्याशी का हश्र देखकर कोई जोखिम उठाने के मूड में नहीं था, लेकिन वार्ड 5 के पूर्व पार्षद अरविंद चंद्रवंशी ने रिस्क लिया और इस बार चुनकर आयी अपनी पत्नी रमा चंद्रवंशी का नाम आगे बढ़ाया।

हार का अंतर कम हो गया

उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस प्रत्याशी रमा चंद्रवंशी की हार का अंतर कम अवश्य हो गया है। जहां अध्यक्ष पद की प्रत्याशी तुलसा वर्मा को कांग्रेस के 14 पार्षदों में से केवल 8 वोट मिले थे, वहीं रमा चंद्रवंशी को कांग्रेस के 14 में से 13 पार्षदों ने वोट दिया। इस तरह से कांग्रेस अपने क्रास वोटिंग करने वाले छह में से पांच पार्षदों को वापस ले आने पर ही खुश हो गयी। हालांकि जीत फिर भी नहीं हुई। उपाध्यक्ष पद पर हुआ मुकाबला पुरानी इटारसी क्षेत्र के दोनों पार्षदों के बीच हुआ था। जहां निर्मल सिंह राजपूत वार्ड 2 से चुने गये हैं, वहीं रमा चंद्रवंशी वार्ड 5 की निर्वाचित पार्षद हैं।

नगर पालिका में गहमागहमी रही

नगर पालिका अध्यक्ष चुनाव में कांग्रेस ने भी मैदान में आकर चुनाव को दिलचस्प बना दिया था। हालांकि संख्या बल के मुकाबले कांग्रेस प्रत्याशी के जीतने की संभावना कम लग रही थी, लेकिन जिला पंचायत चुनाव जैसे किसी करिश्मे की आस में कांग्रेसियों ने पिछले कुछ दिनों से उत्साह दिखाया था। सुबह से ही दोनों पार्टियों के पार्षद और नेता नगर पालिका में जमा होना प्रारंभ हो गये थे तो कई तमाशायी भी नगर पालिका कार्यालय में जमा थे। किसी भी प्रकार की शांति भंग न हो, इसको देखते हुए पुलिस का खासा इंतजाम किया गया है।

अंतिम वक्त पर घोषित किया नाम

भारतीय जनता पार्टी में उपाध्यक्ष पद के लिए कल से कुछ अन्य नाम चल रहे थे। जो नाम अंतिम वक्त में आया, वह नाम चर्चा में नहीं था। कल से अमृता मनीष सिंह ठाकुर, राकेश जाधव के नाम थे, लेकिन अंतिम समय में निर्मल सिंह राजपूत का नाम सामने आने पर बहुत लोगों को आश्चर्य भी हुआ। निर्मल सिंह अंतिम पंद्रह मिनट शेष थे, जब नामांकन भरने आये। उनके प्रस्ताव स्वयं नगर पालिका के नवनिर्वाचित अध्यक्ष पंकज चौरे बने।

कांग्रेस ने अंतिम समय तक उम्मीद रखी

नगर पालिका अध्यक्ष का पद बड़े अंतर से हारने के बावजूद कांग्रेस ने अंतिम समय तक आस नहीं छोड़ी थी। इतने बड़े अंतर से हारने के बाद पार्टी के कई पार्षद उपाध्यक्ष पद पर चुनाव नहीं लडऩे का सुझाव दे रहे थे, लेकिन वरिष्ठ नेताओं ने जिम्मेदारी ली कि बिना लड़े नहीं हारेंगे। हमारे जो 14 वोट हैं, वे तो हमें मिलेंगे। एक नेता ने तो यहां तक कहा था कि 14 नहीं आये तो राजनीति छोड़ दूंगा। हालांकि यहां भी कांग्रेस को अपने 14 पार्षदों से भी केवल 13 वोट मिले और एक क्रास वोटिंग हुई। दो पद हारने के बाद भी कांग्रेस ने अपील समिति के सदस्यों के चुनाव लड़े और यहां भी हार मिली।

सभी पार्षद हमारे, भेदभाव नहीं होगा : विधायक

अपने सभी प्रत्याशियों की जीत पर विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा ने कहा कि हम 20 पार्षदों के साथ तो पहले से ही आगे थे, लेकिन छह और भी पार्षदों ने हम पर भरोसा जताया है। वास्तव में यह जनता का भरोसा है, हम विश्वास दिलाते हैं कि परिषद में जितने भी पार्षद हैं, वे सब हमारे हैं और हम किसी के साथ भी कोई भेदभाव नहीं करेंगे, हर पार्षद के वार्ड में बिना भेदभाव काम किया जाएगा, यह हम पर शहर का भरोसा है, जिस पर हम खरे उतरेंगे।

spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest News

श्री द्वारिकाधीश मंदिर से निकली श्रीराम जी की बारात, भक्ति में झूमे नगरवासी

इटारसी। देवल मंदिर में हो रहे श्रीराम विवाह महोत्सव एवं नि:शुल्क सामूहिक विवाह के अंतर्गत आज सोमवार को श्री...

More Articles Like This

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: