हिंदी की बिंदी भी बोलती है- डॉ. संजीव शुक्ला

हिंदी की बिंदी भी बोलती है- डॉ. संजीव शुक्ला

हिंदी सप्ताह अंतर्गत काव्य गोष्ठी एवं व्याख्यानमाला आयोजित

सोहागपुर, राजेश शुक्ला। हिंदी की तो बिंदी भी बोलती है ,पर अंग्रेजी में तो बहुत कुछ साइलेंट होता है । हिंदी के प्रयोग को बढ़ावा मिलना चाहिए।उक्त बात डॉ संजीव शुक्ला ने हिंदी पर दिए गए व्याख्यान में कही।

बुधवार को हिंदी सप्ताह के अंतर्गत जीजोतिया ब्राहमण समाज भवन साहित्य परिषद के बैनर तले कवि गोष्ठी एवं व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया था साहित्य परिषद अध्यक्ष पंडित राजेंद्र सहारिया एवं अतिथि शिवकुमार दीवान की मौजूदगी में कवियों ने अपनी रचनाओं का वाचन किया व्याख्यानमाला में प्रधानाचार्य विनोद दीक्षित ने हिंदी के प्रति लोगों को प्रेरित करने की आवश्यकता बताई। कवियों ने कवि गोष्ठी में सामयिक विषयों एवं अन्य विषयों पर कविता एवं गीत की प्रस्तुति दी।कार्यक्रम शुभारम्भ मां सरस्वती की पूजन अर्चन एवं बालिका अंशिका दीक्षित के हनुमान चालीसा के पाठ से हुआ

इन कवियों ने पढ़ी रचनाएं
साहित्य परिषद अध्यक्ष पंडित राजेंद्र सहारिया, मथुरा प्रसाद जोशी, अमित बिल्लोरे, राजेश शुक्ला, प्रबुद्ध दुबे, शैलेंद्र शर्मा, जीवन दुबे एवं संजय दीक्षित, श्वेतल दुबे ने भी हिंदी सप्ताह अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम में अपनी सुंदर काव्य रचनाओं की प्रस्तुति दी।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!