अटल बाल पालक होना ही सबसे बडा सम्मान – कलेक्टर

अटल बाल पालको ने सम्मेलन मे साझा किये अपने अनुभव

अटल बाल पालको ने सम्मेलन मे साझा किये अपने अनुभव
होशंगाबाद। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बच्चो तथा महिलाओ का पोषण स्तर अच्छा करने के लिये अटल बाल पालक अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत जनप्रतिनिधियो, समाजसेवियो तथा गणमान्य नागरिको ने आगंनबाडी केन्द्र की जिम्मेदारी लेकर उसे सुपोषित करने का सफल प्रयास कर रहे है। अटल बाल पालको का तीसरा जिला स्तरीय सम्मेलन अग्निहोत्री गार्डन होशंगाबाद मे आयोजित किया गया। सम्मेलन मे जिले भर से आये अटल बाल पालको ने अपने अनुभव सुनाये। सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए मुख्यअतिथि कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने कहा कि होशंगाबाद मे अटल बाल पालक बनना बडे सम्मान की बात है। जिले भर मे पिछले तीन महीने मे अटल बाल पालको तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियो, कर्मचारियो ने शानदार कार्य किया है। जिसके फलस्वरूप गोद ली गई आंगन बाडीयो के 80 प्रतिशत से अधिक बच्चो के वजन मे वृद्धि हुई है। सम्मेलन मे अटल बाल पालक डॉ आनंद पाठक ने बान्द्राभान आंगनबाडी केन्द्र के लिये एल.ई.डी टी.वी. सेट भेंट किया। सम्मेलन मे मालवी हास्पिटल के सहयोग से प्रकाशित त्रेमासिक पत्रिका अटल बाल पालक एक्सप्रेस का विमोचन किया गया। सम्मेलन मे अतिथियो का स्वागत पोषण आहार टोकरी देकर किया गया। जिसकी समग्री बाद मे आंगनबाडी केन्द्र को दी जायेगी।
कलेक्टर ने कहा कि अटल बाल पालको ने जिले मे कुपोषण को मिटाने के लिये जो प्रयास किये है उससे सफलता की उम्मीद बंधी है। बिना किसी लाभ तथा यश की अपेक्षा के केवल आत्म संतोष के लिये अटल बाल पालक पूरे उत्साह से बच्चो की देखभाल कर रहे है। आप के प्रयासो से यदि एक बच्चे के वजन मे सुधार हुआ तो यही सबसे बडा संतोष है। अटल बाल पालको के साथ कुपोषण मिटाने का अभियान सही दिशा मे आगे बढ रहा है। इसमे डाक्टरो तथा आंगन बाडी कार्यकर्ता एवं साहायिका का भी सराहनीय योगदान है। हम अभिभावक को बच्चो की उचित देखभाल के लिये जागरूक करने मे सफल हो रहे है।
सम्मेलन मे संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास श्री शिवकुमार शर्मा ने कहा कि होशंगाबाद मे बच्चो के लिये अटल बाल पालक सराहनीय कार्य कर रहे है। हम सबने यदि आंगनबाडी के बच्चो का भविष्य सुधार दिया तो हमारे बच्चो के भविष्य सवंर जाएंगे।
सम्मेलन मे डॉ आनंद पाठक ने कहा कि जिले के सभी शिशु रोग विशेषज्ञ बच्चो की सेवा के लिये तत्पर है। महिला एवं बाल विकास विभाग के कर्मचारियो अच्छा कार्य कर रहे है। डॉ गक्खर तथा डॉ यू.के.शुक्ला ने अभियान मे चिकित्सको की भूमिका के सम्बन्ध मे उपयोगी सुझाव दिये। सम्मेलन मे जिला कार्यक्रम अधिकारी संजय त्रिपाठी ने बताया कि हर तिमाही मे जिला तथा विकासखंड स्तर पर अटल बाल पालक सम्मेलन आयोजित किये जाएगे।
सम्मेलन मे अटल बाल पालको ने अपने विचार साझा किये। सम्मेलन मे अटल बाल पालक श्री डी.एस.दांगी, श्रीमती नीरजा फौजदार, श्रीमती माया नारोलिया, श्री धनेन्द्र चौधरी, श्री शिवकुमार, श्री जफर सिद्दीकी, श्री मनीष ठाकुर, मोहम्मद आदिल फासिल, श्री लीलाधर मेहरा, श्री सुरेश अग्रवाल, श्रीमती मीना वर्मा, श्री राजेश वाजपेयी, श्री नर्मदा प्रसाद दुबे पिपरिया, श्री विपिन जैन, डॉ श्रुति मालवी, डॉ अतुल सेठा तथा अन्य अटल बाल पालको ने अपने अनुभव सुनाये।
सभी के आंगनबाडी केन्द्रो मे कम वजन के बच्चो के वजन मे वृद्धि हो रही है। सम्मेलन मे अटल बाल पालको, महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियो, आंगनबाडी कार्यकर्ताओ ने भाग लिये। सम्मेलन का संचालन परियोजना अधिकारी श्री चतुर्वेदी ने किया। सम्मेलन का समापन परियोजना अधिकारी श्री अग्रवाल द्वारा आभार प्रदर्शन से हुआ।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: