अभियान 2 अप्रैल को, कलेक्टर ने की अपील

अभियान 2 अप्रैल को, कलेक्टर ने की अपील

होशंगाबाद। जिले भर में 2 अप्रैल से पल्स पोलियो अभियान चलाया जाएगा, इसके तहत 2 अप्रैल पोलियो बूथ में तथा 3 एवं 4 अप्रैल को घर-घर जाकर पल्स पोलियो की दवा पिलाई जाएगी। अभियान के तहत सर्वेक्षित 0 से 5 वर्ष तक के 1 लाख 69 हजार 648 बच्चो को पोलियो की दवा पिलाई जाएगी। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.दिलीप कटेलिया ने बताया कि दवा पिलाने के लिए शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्र में 1533 पोलियो बूथ बनाए गये हैं। इनमें प्रशिक्षित स्वास्थ्य कार्यकर्ता तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा दवा पिलाई जाएगी।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि जिले की हर बसाहठ में पोलियो की दवा पिलाने की व्यवस्था की गई है। सभी टोलो, मजरो, बसस्टेंड, रेल्वे स्टेशन, हॉट बाजार तथा अन्य महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थलो में दवा पिलाने की व्यवस्था की गई है। दवा पिलाने के लिए 29 मोबाईल टीमे भी तैनात की गई है। इनके साथ-साथ 52 ट्रांजिट पाइंट बनाकर पोलियो की दवा पिलाने की व्यवस्था की गई है। अभियान की सघन निगरानी के लिए 204 सुपरवाईजर तैनात किये गये हैं। इन्हें जिला तथा खंड स्तर पर प्रशिक्षण दिया गया है। इनके अलावा जिला तथा विकासखंड स्तर पर तैनात स्वास्थ्य अधिकारियो के दलो द्वारा भी अभियान की निगरानी की जाएगी। उन्होंने आम जनता से 5 वर्ष तक के सभी बच्चो को अभियान के दौरान पोलियो की दवा पिलाने की अपील की है।
जिलेभर में 2 अप्रैल से पल्स पोलियो अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत एक लाख 69 हजार 648 बच्चो को पोलियो की दवा पिलाई जाएगी। कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने आम जनता से 5 साल तक के सभी बच्चों को अभियान के दौरान पोलियो की दवा पिलाने की अपील की है। उन्होने कहा है कि आम जनता के सहयोग से पोलियो उन्मूलन के लिए चलाए गए अभियान सफल रहें है। जिसके कारण पोलियो का विनाश हो गया है लेकिन अपने पडोस के कुछ देशो में अभी भी पोलियो के रोगी पाए गए है। भावी पीडी को अपंगता के खतरे से बचाने के लिए 5 साल तक के हर बच्चे को पोलियो की दवा पिलाना आवश्यक है। इस लिए 2 अप्रैल को चलाए जा रहे पल्स पोलियो अभियान में अपने बच्चो को पोलियो की दवा अवश्य पिलाए। स्वयं सेवी संस्थाएं जनप्रतिनिधि, सेवानिवृत कर्मचारी इस अभियान को सफल बनाने में सहयोग प्रदान करें।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: