नर्मदापुरम् प्रदेश का पहला ओडीएफ संभाग बना

नर्मदापुरम् प्रदेश का पहला ओडीएफ संभाग बना

होशंगाबाद। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जहां देश को वर्ष 2019 तक स्वच्छ क्लीन बनाने का संकल्प लिया है उसी मंशा और संकल्प को पूरा करने के लिए नर्मदापुरम् संभाग के कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने भागीरथी प्रयास कर संभाग की सभी नगरीय निकायों को बाहर शौच करने की प्रथा से निजात दिला दी है। नर्मदापुरम् संभाग मध्यप्रदेश का पहला ऐसा संभाग बन गया है। जिसकी सभी 18 नगरीय निकाय खुले में शौच से मुक्त हो चुकी है। इस बात का निरीक्षण भारत सरकार की सीसीआई की टीम (क्वालिटी कंट्रोल इंडिया) भी कर चुकी है। और होशंगाबाद जिले की नगर पालिका बाबई, होशंगाबाद, इटारसी, पिपरिया, सिवनीमालवा, सोहागपुर, बनखेडी, बैतूल जिले की भैंसदेही, बैतूल, बैतूल बाजार, चिंचौली, आठनेर, मुलताई, आमला, सारणी व हरदा जिले की खिरकिया, टिमरनी का निरीक्षण कर भारत सरकार की क्वालिटी कंट्रोल इंडिया टीम ने खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) का प्रमाण पत्र भी प्रदान कर दिया है।
हरदा नगर पालिका द्वारा भी निकाय में सभी शौचालय बना लिए गए है। और ओडीएफ घोषित करवाने के लिए उनके द्वारा फार्म भी भर दिया गया है। शीघ्र ही भारत सरकार की टीम निरीक्षण कर हरदा निकाय को भी ओडीएफ का प्रमाण पत्र प्रदान करेंगी। उल्लेखनीय है कि पूर्व में संभाग के सभी 18 नगरीय निकायो में शौचालय निर्माण की गति अत्यंत ही धीमी थी किंतु कमिश्नर श्री उमराव ने इस पर विशेष देकर एवं निरंतर मानिटरिंग कर सभी निकाय को खुले में शौच करने की प्रवृति से निजात दिलाने के लिए अथक भागीरथी प्रयास किया। आज उन्ही के प्रयासो की बदौलत नर्मदापुरम् संभाग प्रदेश का पहला ऐसा संभाग बन गया है। जिसकी सभी निकाय ओडीएफ हो चुकी है। कमिश्नर ने बडे लक्ष्यों को भी सरलता से पूरा करने पर सभी नगर पालिका अध्यक्षों व नगर पालिका अधिकारियो द्वारा किए गए प्रयासो की सराहना की है साथ ही होशंगाबाद व सुहागपुर के नगर पालिका अधिकारी की सराहना की है जिन्होने कम समय में ही बहुत बडे लक्ष्य को पूरा कर दिखाया। संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन श्री सुरेश बेलिया ने कहा कि सभी नगरीय निकायो ने रात दिन अथक परिश्रम कर अतिरिक्त श्रमिक लगाकर एक असंभव कार्य को संभव कर दिखाया इसके लिए उन्होने सभी नगरीय निकायो के अध्यक्षो व नगर पालिका अधिकारियो को बधाई दी है।
नगरीय निकायो में बने शौचालय
नर्मदापुरम् संभाग के 18 नगरीय निकायो में 16 हजार से अधिक के व्यक्तिगत शौचालय के निर्माण का लक्ष्य था जिसे पूरा कर लिया गया है। नगर पालिका होशंगाबाद में 13 सौं शौचालय का लक्ष्य था, सिवनीमालवा में 500, इटारसी में 1228, पिपरिया में 319, बाबई में 961, बनखेडी में 1581, सोहागपुर में 877 का लक्ष्य प्राप्त हुआ था जिसे शत प्रतिशत पूरा कर लिया गया है। हरदा जिले की नगर पालिका टिमरनी में 740, सिरकिया में 464 व हरदा में 854 शौचालय बनाने का लक्ष्य था जिसे समय रहते ही पूरा कर लिया गया है। बैतूल जिले की नगर पालिका आमला में 561, बैतुल में 1816, सारणी में 720, मुलताई में 512, बैतूज बाजार में 479, आठनेर में 1062, चिचोंली में 328 व भैंसदेही में 500 शौचालय बनाने का लक्ष्य था जिसे पूरा कर लिया गया है। बैतूल बाजार में 5 स्थानो पर हितग्राहियो के मकानो में जगह ना होने के कारण 7-7 सीटर सार्वजनिक शौचालक बनाए गए है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: