सक्रिय भागीदारी से ही पौधरोपण कार्यक्रम होगा सफल : कमिश्नर

सक्रिय भागीदारी से ही पौधरोपण कार्यक्रम होगा सफल : कमिश्नर

ग्रामीणों से सक्रिय रूप से सहयोग देने का किया आव्हान
होशंगाबाद। नर्मदापुरम संभाग कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने सूंदूर ग्रामीण क्षेत्रो मे नर्मदा नदी के राइपेरियन जोन मे होने वाले पौधरोपण की स्थिति जानने के लिए आज पिपरिया विकासखण्ड के ग्राम सुरैला किशौर व सांडिया का भ्रमण किया। उन्होंने उक्त दोनों गांवों का भ्रमण कर आगामी 4 जून को होने वाले बीजो उपचार कार्यक्रम व 2 जुलाई को होने वाले वृहद वनस्पति पौधौ के रोपण कार्यक्रम की स्थिति जानी। कमिश्नर ने सुरैला किशोर मे 4 जून को होने वाले बीजोपचार कार्यक्रम की तैयारियों का निरीक्षण किया उन्होंने बताया कि लगभग 60 से 65 प्रकार के विभिन्न वनस्पति पौधों के बीजो का संग्रहण किया गया है। इन बीजों को नर्मदा नदी के 1-1 किलोमीटर के क्षेत्र मे लगाया जाएगा। नर्मदा परिवार के सदस्य इन बीजो को अपने-अपने आंवटित उपखण्ड मे लगाएगें।
श्री उमराव ने बीजोपचार कार्यक्रम की पूर्व से ही तैयारी करने के निर्देश देते हुए कहा कि नर्मदा परिवार अभी से आवंटित उपखण्डो मे बीज लगाने के लिए गड्ढे खोद ले एवं 4 जून को बीज लगा देवे यदि कोई 4 जून से पूर्व ही बीज लगाना चाहता है तो वो बीज लगा दे। कमिश्नर ने ग्रामीणो से कहा कि बीजोपचार व 2 जुलाई को वनस्पति पौधो के रोपण का कार्यक्रम महत्वपूर्ण है। अत: बनाए गए नर्मदा परिवार मे ओर भी सदस्यो को जोड़ने के निर्देश देते हुए कमिश्नर ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि एक नर्मदा परिवार मे 2 से 3 परिवारो को एवं सामाजिक परिवारो को जोडते हुए इसकी सदस्य संख्या कम से कम 25 रहनी चाहिए। कमिश्नर ने अब तक बने नर्मदा परिवारों में महिलाओं की कम संख्या पर नाराजगी प्रकट करते हुए सभी प्रस्फुटन समिति के सदस्यों को निर्देशित किया कि वे महिलाओं की शतप्रतिशत सदस्यता सुनिश्चित करे। कमिश्नर ने कहा कि गांव के 90 प्रतिशत लोगो को नर्मदा परिवार का सदस्य बनाया जाए 3 वर्ष से ऊपर के आयु के बच्चो को भी इस कार्य से जोड़ने के निर्देश कमिश्नर ने दिए। कमिश्नर ने ग्राम सांडिया मे भ्रमण के दौरान संबंधित अधिकारियो को निर्देशित किया कि वे यह सुनिश्चित करे कि नर्मदा परिवार व सामाजिक परिवार, स्वयंसेवी संस्था को अपने आवंटित उपखण्ड के बारे मे स्पष्ट रूप से बताए। कमिश्नर ने बताया कि 50 मीटर के आवंटित उपखण्ड मे लगभग 50 प्रकार की वनस्पति पौधो के बीज लगाएं जाएगें। बीज एवं पौधो की सुरक्षा की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाएगी। कमिश्नर ने मां नर्मदा के पुराने वैभव को वापस लाने, मां नर्मदा पवित्र व निर्मल तथा प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए ग्रामीणो से सक्रिय रूप से भागीदारी निभाने का अव्हान किया। कमिश्नर ने कहा कि सभी सामाजिक परिवार, स्वयंसेवी संगठन, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधि, मजदूर, श्रमिक, अधिकारी, कर्मचारी, सेवानिवृत व्यक्ति की सतत भागीदारी इस कार्य के लिए आवश्यक है।
कमिश्नर ने ग्रामीणों को बताया कि जो व्यक्ति, संस्था मां नर्मदा परिवार आवंटित उपखण्ड को बेहतर तरीके से पुर्नजीवित करेगा, वनस्पति रोपण एवं उसके रख रखाव मे सर्वश्रेष्ठ कार्य करेगा उसे एक लाख रूपये का पुरस्कार दिया जाएगा। 51 हजार, 31 हजार, 21 हजार, 11 हजार के अन्य पुरस्कार दिए जाएगे। कमिश्नर ने अधिकारियो को प्रतिदिन प्रात: 7 बजे से 9 बजे तक लोगो से सम्पर्क कर शतप्रतिशत गांव कवर करने के निर्देश दिये। कमिश्नर ने कहा कि विभिन्न प्रजातियो के बीज पौधे, कलम, घास, कांस का सग्रहण लगातार किया जा रहा है।
कमिश्नर के भ्रमण के दौरान एसडीएम पिपरिया एम.एस.रघुवंशी, तहसीलदार पिंकी सिंहमारे सहित अन्य अधिकारी गण मौजूद रहे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: