अंबेडकर के बताए रास्ते पर चले समाज

महार समाज का मिलन समारोह

 महार समाज का मिलन समारोह
इटारसी। रेलवे इंस्टीट्यूट बारह बंगला के सभागार में महार समाज का युवक-युवती परिचय सम्मेलन और पारिवारिक मिलन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में सेवानिवृत्त अपर कलेक्टर आरआर बामनकर मुख्य अतिथि थे।
इस अवसर पर संबोधित करते हुए श्री बामनकर ने समाज के लोगों से कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर साहब ने समाज को जो रास्ता बताया है, उसी पर चलकर हम देश और समाज की सेवा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम परिचय सम्मेलन के अलावा भी समाज हित में आयोजन करें और लोगों को अपने अधिकारों के लिए जागरूक करें। उन्होंने पूना एक्ट की जानकारी समाज के लोगों को दी।
कार्यक्रम में करीब 22 युवती और 30 युवकों ने मंच से अपना परिचय दिया। ये युवक युवती जबलपुर, छिंदवाड़ा, बैतूल, हरदा, खंडवा, भोपाल आदि से आए थे। कार्यक्रम में करीब एक हजार सामाजिकजन शामिल हुए। इस दौरान नए वर्ष के अवसर पर तिलक सिंदूर में हुए वार्षिक समारोह के तहत हुई खेल प्रतियोगिताओं और शनिवार को इस कार्यक्रम से पूर्व हुई रंगोली प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरित किए गए। कार्यक्रम का संचालन एसके गुलबाके और प्रकाश उपनारे ने किया। इस अवसर पर अध्यक्ष आर राजुरकर, सतीश भूमरकर, विजय गुजरे, सदाशिव खातरकर, मनोज गुलबाके, केडी नागले सहित अनेक समाजजन मौजूद थे।
अन्न का अपमान न करें
कार्यक्रम में समाज के वरिष्ठ सदस्य और पूर्व सरपंच श्यामराव दवंडे ने समाज के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि देश में कई लोगों को एक वक्त का भी भोजन मुश्किल से नसीब होता है, अत: हमें किसी भी कार्यक्रम में जाने पर या घर में भी उतना ही भोजन लेना चाहिए जितना हम खा सकें। प्लेट में खाना छोडऩा अनाज का अपमान है। कई लोगों को उतना भी नहीं मिल पाता है जितना आप प्लेट में छोड़ते हो। उन्होंने सामाजिक बंधुओं से आग्रह किया है कि इस कार्यक्रम से ही हम संकल्प लें कि अनाज का अनादर नहीं करेंगे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: