अभा कवि सम्मेलन, सामाजिक व्यक्तियों का सम्मान

अभा कवि सम्मेलन, सामाजिक व्यक्तियों का सम्मान

इटारसी। जयस्तंभ चौक पर बुधवार को होशंगाबाद जिला पत्रकार संघ एवं पगारे मित्र मंडल ने शहर की नामचीन हस्तियों का सम्मान किया। इस अवसर पर पूर्व गृह उपमंत्री विजय दुबे काकूभाई, सुधीर गोठी, जसपाल सिंह भाटिया, कैलाश शर्मा, सुरेंद्र अरोरा, विनोद शुक्ला एवं एडव्होकेट रमेश के साहू को सम्मानित किया।
आयोजन समिति की ओर से होशंगाबाद जिला पत्रकार संघ के सचिव शिव भारद्वाज एवं कोषाध्यक्ष राजेश दुबे, पगारे मित्र मंडल के संयोजक विनीत चौकसे, संदेश पुरोहित एवं पंकज राठौर ने शाल श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया। मित्र मंडल समिति के संयोजक विनीत चौकसे ने इस अवसर पर कहा कि होशंगाबाद जिला पत्रकार संघ के अध्यक्ष प्रमोद पगारे ने 40 वर्षों से पत्रकारिता एवं सामाजिक, धार्मिक क्षेत्र में काम करके अपनी विशेष पहचान बनाई है और उनकी इस कर्मयात्रा में शहर की जिन महत्वपूर्ण हस्तियों ने अपना योगदान दिया उन्हें जयस्तंभ चौक पर सम्मानित करने का गौरव हमें प्राप्त हुआ है। सचिव शिव भारद्वाज ने कहा कि जयस्तंभ इस बात का साक्षी बना है कि शहर में विभिन्न क्षेत्रो में कार्य करने वाले प्रमोद पगारे को विगत 40 वर्षों में सहयोग देने वाले सम्माननीय व्यक्तियों का आज सम्मान किया जा रहा है।
श्री भारद्वाज ने कहा कि मप्र विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा तो उनकी व्यस्तता के कारण दोपहर में ही शॉल श्रीफल एवं स्मृति प्रदान किया था। विपिन जोशी स्मारक समिति की ओर से प्रमोद पगारे का नागरिक अभिनंदन भी किया। अभिनंदन पत्र का वाचन रमेश के साहू ने किया। उन्होंने पगारे की सामाजिक, धार्मिक एवं पत्रकारिता की यात्रा की विशेषताओं का अभिलेख किया। उन्होंने कहा कि शांतिधाम श्मशानघाट, द्वारिकाधीश बड़ा मंदिर एवं संस्कृत महाविद्यालय के नवनिर्माण सहित शहर के सैकड़ो ऐसे कार्य है जिन्हें हमेशा याद किया जाएगा। पूर्व गृह उपमंत्री विजय दुबे काकूभाई ने कहा कि प्रमोद पगारे एक व्यक्ति नहीं आंदोलन है और हम लोगों से उनके द्वारा किए कार्यो में समय-समय पर जो सहयोग देते बने वो दिया। इस अवसर पर गुरूसिंह सभा इटारसी के संरक्षक जसपाल सिंह भाटिया एवं इटारसी सुधार न्यास के पूर्व अध्यक्ष अरविंद मालवीय ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

अखिल भारतीय कवि सम्मेलन
इस अवसर पर हुए अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का संचालन सुमित ओरछा ने किया। वीररस के कवि अनिल तेजश, हास्य व्यंग्य के कवि मनोज मद्रासी, राजेंद्र मालवीय, ब्रजकिशोर पटेल ने अपनी प्रतिनिधि रचनाएं सुनाई। वहीं पेरोडी गीतकार दिनेश याग्निक, रामकिशोर नाविक एवं ममता वाजपेयी ने अपनी रचना प्रस्तुत की। समिति ने समस्त कवियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। जयनारायण दसोरे का चिमटा वादन आर्कषण का केंद्र रहा। आभार प्रदर्शन पंकज राठोर ने किया। मित्र मंडल के सदस्य अतुल खंडेलवाल, मनोज अग्रवाल, विनीत चौकसे, भोजराज मूलचंदानी, रमेश राजपूत, जिला सर्व ब्राम्हण समाज के अध्यक्ष जितेंद्र ओझा, राजकुमार उपाध्याय, घनश्याम तिवारी, जितेंद्र अग्रवाल, सुरेंद्र राजपूत मौजूद थे। संचालन सुनील वाजपेयी ने किया।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: