आखिरकार मिल गईं लापता चार छात्राएं

आखिरकार मिल गईं लापता चार छात्राएं

आटो चालक ने दिया लालच तो निकल पड़ी घर से
इटारसी। घर वालों की रोकटोक से परेशान चार छात्राओं ने आखिर घर छोडऩे का फैसला कर दिया। इनके इस फैसले का कारण मंडीदीप में रहने वाले एक आटो चालक द्वारा दिया गया लालच था। आटो चालक से चारों छात्राओं में से एक की मुलाकात इटारसी में एक विवाह समारोह में हुई थी। इसके बाद फेसबुक पर दोस्ती परवान चढ़ी और एक छात्रा ने अपनी तीन और सहेलियों को राजदार बनाया। फिर शनिवार 28 जनवरी की दोपहर ये शहर छोड़कर निकल पड़ी आटोचालक से मिलने। पुलिस ने सूचना मिलने के बाद तकनीकि मदद के सहारे इनको ढूंढ निकाला। अब लड़कियां उनके परिजनों के पास पहुंच गई हैं और आरोपी सलाखों के पीछे।
पुरानी इटारसी और पीपल मोहल्ला की दो-दो छात्राएं आपस में सहेली हैं। शनिवार को ये घर से तो निकली स्कूल जाने को लेकिन, पहुंच गईं मंडीदीप। जब ये देर शाम तक घर नहीं पहुंची तो इनके परिजनों ने थाने जाकर पुलिस में शिकायत दर्ज करायी। रात करीब 10:30 बजे पुलिस शिकायत दर्ज करने के बाद इनकी सहेलियों के घरों में जा-जाकर पूछताछ शुरु की। एक सहेली से पता चला कि सुबह उसके यहां इन्होंने स्कूल की यूनिफार्म बदलकर सिविल ड्रेस पहनी और यह कहकर निकली कि वे घर वालों की कपड़े पहनने और रहन-सहन के तौर तरीकों पर टोकाटाकी से परेशान होकर घर छोड़कर जा रही हैं।
पुलिस ने कुछ युवकों को भी संदेह के आधार पर उठाया तो एक मोबाइल नंबर का पता चला। पुलिस ने इसके नंबर को ट्रेस कराया तो यह मंडीदीप की लोकेशन बता रहा था। रात डेढ़ बजे एएसआई केएल रजक, प्रधान आरक्षक रेखा मुनिया, आरक्षक राजेश जैन और राकेश पवार टीम को मंडीदीप भेजा। सुबह ये चारों लड़कियां बस स्टैंड से रेलवे स्टेशन की तरफ एक लड़के साथ जाते हुए दिखीं तो पुलिस ने रोका। पुलिस को देख लड़का भागने लगा जिसे घेराबंदी करके पकड़ा।
आटो चालक है लड़का
पुलिस को जो कहानी बतायी गई उसके अनुसार मंडीदीप के पास सतलापुर गांव के निवासी निक्की चौरे 23 आटो चालक है। उसकी नानी यहां इटारसी में रहती है। लड़का कुछ माह पूर्व यहां शादी में आया था तो एक लड़की से उसकी मुलाकात हुई। इसके बाद फेसबुक पर ये फ्रेन्ड बन गए। लड़की ने अपनी दो सहेलियों को इसके बारे में बताया तो वे भी इस लड़के के साथ फेसबुक से जुड़ गईं। लड़कियों ने निक्की को बताया कि उनके घर वाले पुराने ख्यालों के हैं और जींस आदि नहीं पहनने देते और ना ही कहीं घूमने देते हैं। लड़के ने इनको प्रलोभन दिया कि मेरे पास आ जाओ तुमको मॉल घुमाऊंगा, यहीं नौकरी दिला दूंगा फिर मर्जी से जिंदगी जीना। लड़कियां लालच में आ गई और एक ने सभी को बताया तो सभी ने एकसाथ घर छोडऩे का फैसला किया और शनिवार को वे यहां रेलवे स्टेशन से पठानकोट एक्सप्रेस में बैठकर मंडीदीप चली गई। इनके पास से पुलिस को दो मोबाइल मिले हैं। पुलिस ने लड़के के खिलाफ धारा 363 का प्रकरण पंजीबद्ध किया है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: