जंगल में मंगल कर रहे मास्साब, बच्चों को नहीं आते गिनती-पहाड़े

अवैध मत्स्याखेट पर रहेगी नज़र

कलेक्टर एक्सप्रेस पहुंची केसला ब्लाक
इटारसी। घने जंगलों के बीच स्थित स्कूलों के मास्साब और टीचर मैडम अपने मंगल में लगे हैं, बच्चों की शिक्षा की चिंता किए वगैर। तभी तो इन स्कूलों के बच्चों को न तो ठीक से गिनती आती है और ना ही पहाड़े। विज्ञान के प्रयोग, गणित तो दूर की बात है। आज जब कलेक्टर एक्सप्रेस सतपुड़ा के घने जंगलों में स्थित गांवों के स्कूलों के बच्चों से मिलने पहुंची तो यह सच्चाई सामने आयी। कलेक्टर एक्सप्रेस आज केसला विकासखंड के ग्राम दौड़ी-झुनकर पहुंची थी। यहां के स्कूलों में पढ़ाई के दयनीय हालात देखकर कलेक्टर अविनाश लवानिया ने शिक्षक-शिक्षिकाओं को हिदायत दी कि दो माह बाद पुन: आएंगे तब स्थिति बदली हुई लगना चाहिए। उन्होंने हाई स्कूल के प्राचार्य, मिडिल स्कूल की प्राचार्य की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश संबंधित विभाग के साथ आए अधिकारियों को दिए। इसी तरह प्रधान अध्यापक श्री मस्कोले की दो वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश भी दिए।
कलेक्टर एक्सप्रेस आज शाम 4 बजे ग्राम झुनकर पहुंची। कलेक्टर अविनाश लवानिया के साथ जिला मुख्याभलय से जिला पंचायत सीईओ पीसी शर्मा, अतिरिक्त कलेक्टर मनोज सरेआम सहित जनपद सीईओ सीपी सोनी सहित ब्लाक के सभी विभागों के अधिकारी पहुंचे थे। कलेक्टर को ग्रामीणों ने बीपीएल कार्ड, वनाधिकार पट्टे सहित अनेक समस्याओं से अवगत कराया। कलेक्टर ने जब वन अधिकार पट्टों के विषय में जानकारी ली तो उन्हें बताया कि 2006 में वन अधिकार कानून लागू होने के पहले 206 पट्टे थे। नए नियम लागू होने के बाद एससी और पिछड़ा वर्ग वाले इससे वंचित हो गए जिनमें दौड़ी के 25 और झुनकर के 20 लोग शामिल हैं। कलेक्टर ने एसडीओ वन को मामले में जानकारी लेकर नियमानुसार कार्यवाही के निर्देश दिए। इस दौरान गांव की तीनों आंगनवाड़ी केन्द्रों में बच्चों के लिए कूलर देने की घोषणा कलेक्टर ने की।
ग्राम में लगे खंड स्तरीय लोक कल्याण शिविर में ग्रामीणों से बातचीत करते हुए कलेक्टर को चनागढ़ के तालाब की समस्या बतायी जिन्हें उपयोगी बनाने के निर्देश कलेक्टर से संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने बच्चों स्कूल के बच्चों को बुलाकर आधा घंटे क्लास ली। बच्चों से न तो गिनती बनी, ना पहाड़े। बच्चे गणित भी नहीं कर सके और विज्ञान के प्रयोग भी नहीं बने। कलेक्टर ने नाराजी जतायी। शिविर में हैंडपंपों में लाल पानी की शिकायत पर पीएचई से समस्या हल करने को कहा। शिविर में जनपद पंचायत में सांसद प्रतिनिधि शैलेन्द्र दीक्षित, जनपद सदस्य अजय महालहा, मनोज गुलबांके सहित अनेक जनप्रतिनिधि और अधिकारी मौजूद थे।
अवैध मत्स्याखेट पर रहेगी नज़र
कलेक्टर ने एसडीएम अभिषेक गेहलोत को वन विभाग और पुलिस के साथ मिलकर तवा में बिहारी मछुआरों द्वारा किए जा रहे अवैध मत्स्याखेट रोकने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि अवैध मछली पकडऩे वालों के खिलाफ निरंतर अभियान चलते रहना चाहिए ताकि इसे पूरी तरह से खत्म किया जा सके। उन्होंने कहा कि मछली माफियाओं को पूरी तरह से खत्म किया जाए और दोबारा यहां मछली का अवैध शिकार न हो, इसके पुख्ताी इंतजाम किए जाएं।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: