दीवाली बाद अंडरब्रिज के काम शुरु होना था, जीएम बदल गए

दीवाली बाद अंडरब्रिज के काम शुरु होना था, जीएम बदल गए

विधानसभा अध्यक्ष रेलवे जीएम को याद दिलाएंगे अपना वादा
इटारसी। करीब 11 माह पूर्व राज्य शासन द्वारा रेलवे को अंडरब्रिज के लिए राशि देने के बावजूद अब तक नई गरीबी लाइन इटारसी और ग्वालटोली होशंगाबाद में अंडरब्रिज का काम प्रारंभ नहीं हो सका है। काम शुरु होना तो दूर इसकी पहल तक दिखाई नहीं दे रही है जबकि विधानसभा अध्यक्ष से तत्कालीन जीएम आर चंद्रा ने दीपावली के बाद नवंबर से काम शुरु कराने का भरोसा दिलाया था। ग्वालटोली और इटारसी में नई गरीबी लाइन में रेलवे लाइन पर अंडरब्रिज का निर्माण कार्य इसी वर्ष नवंबर से प्रारंभ होने की उम्मीद थी लेकिन यह अवधि भी निकल गई बल्कि वर्ष भी खत्म होकर नया वर्ष प्रारंभ हो गया। अब मप्र विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.सीतासरन शर्मा ने इस संबंध में पुन: पश्चिम मध्य रेलवे के जीएम और रेल मंत्रालय से पत्राचार करने की तैयारी कर ली है।
उल्लेखनीय है कि विस अध्यक्ष डॉ. शर्मा से जीएम की चर्चा और ओएसडी बीएल विश्वकर्मा के लिखे पत्र के जवाब में पश्चिम मध्य रेलवे के मुख्य पुल इंजीनियर आरएन सुनकर ने टेंडर प्रक्रिया पूर्ण कर कार्य नवंबर 2016 से प्रारंभ करके दिसंबर 2017 में पूर्ण कर लिए जाने की संभावना जतायी थी। उनके इस जवाब के बाद नवंबर में कार्य प्रारंभ होने के बाद 13 माह में रेलवे अंडरब्रिज का निर्माण कार्य पूरा हो जाने की उम्मीद थी।
ये था पत्र में….
मप्र विधानसभा अध्यक्ष डॉ. शर्मा की ओर से उनके ओएसडी बीएल विश्वकर्मा द्वारा महाप्रबंधक को लिखे गए पत्र में बताया था कि मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणा के क्रियान्वयन के तारतम्य में लोक निर्माण विभाग, सेतु निर्माण उपसंभाग, होशंगाबाद द्वारा होशंगाबाद के इटारसी-भोपाल रेलवे क्रासिंग क्रमांक 233 ग्वालटोली के पास रेलवे अंडरब्रिज निर्माण तथा इटारसी में इटारसी-भोपाल सेक्शन क्रासिंग क्रमांक 225 में गरीबी लाइन रेलवे अंडरब्रिज निर्माण हेतु डिमांड ड्राफ्ट 5 फरवरी 16 को वरिष्ठ मंडल प्रबंधक पश्चिम मध्य रेलवे भोपाल को भेजा जा चुका है. उक्त दोनों अंडरब्रिज निर्माण का कार्य रेलवे द्वारा किया जाना है, आवागमन की अत्यंत असुविधा के कारण ही उक्त अंडरब्रिज स्वीकृत किये गए थे।
ये होगा अंडरब्रिज से फायदा
होशंगाबाद में ग्वालटोली और इटारसी में नई गरीबी लाइन में आवागमन की सुविधा के लिए अंडरब्रिज की अत्यंत आवश्यकता है और इन क्षेत्रों के हजारों नागरिक वर्षों से इसकी मांग करते आ रहे हैं। रेल लाइन के कारण होशंगाबाद में ग्वालटोली, एसपीएम और हरदा तरफ से आने वालों को लंबा फेर लगाकर ओवरब्रिज से होकर शहर में प्रवेश करना पड़ता है। यहां अंडरब्रिज बन जाने से हजारों नागरिकों को सीधे शहर में आने की सुविधा होगा और नागरिक नर्मदा घाट, मुख्य बाजार, सतरस्ता, बस स्टैंड से सीधे जुड़ जाएंगे और करीब पांच किलोमीटर की लंबा फेर से बच सकेंगे। इसी तरह से इटारसी के लोगों को भी लगभग तीन किलोमीटर का फेर बचेगा। रेलवे लाइन की दूसरी ओर औद्योगिक क्षेत्र, श्मशान, कृषि उपज मंडी, विद्युत वितरण कंपनी का आफिस और कुछ महत्वपूर्ण ट्रांसपोर्ट के आफिस हैं. हजारों नागरिकों को हर रोज दिन में कई मर्तबा इन क्षेत्रों में जाना होता है जो या तो ओवरब्रिज से होकर जाना पड़ता है जिससे समय और धन अधिक लगता है। अंडरब्रिज बन जाने से शहर के लोग सीधे इन क्षेत्रों से जुड़ जाएंगे।
इनका कहना है….
राज्य शासन ने अंडरब्रिज के लिए 9.98 करोड़ की स्वीकृति दी है। यह राशि रेलवे को दी जा चुकी है. मेरी पमरे के जीएम से व्यक्तिगत चर्चा हुई थी और उनका पत्र भी हमें प्राप्त हुआ था। उन्होंने नवंबर 16 से काम प्रारंभ करने की जानकारी दी थी लेकिन यह अवधि बीत गई है। अब हम पुन: पत्राचार और व्यक्ति चर्चा करके जल्द से जल्द काम प्रारंभ कराएंगे।
डॉ.सीतासरन शर्मा, अध्यक्ष मप्र विधानसभा

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: