दो लोग फिर हुए बेलगाम मवेशियों का शिकार

दो लोग फिर हुए बेलगाम मवेशियों का शिकार

बुजुर्ग से टकराये मवेशी, युवती को मारा
इटारसी। महज आश्वासन देकर भूल जाने वाले नगर पालिका के अधिकारियों की अनदेखी का शिकार लगातार शहर के नागरिक बन रहे हैं। 29 अप्रैल को एक मौत के बाद 2 मार्च को एक बुजुर्ग पर हमला और आज 13 मार्च को एक बुजुर्ग और एक युवती बेलगाम मवेशियों का शिकार बने हैं।
सड़कों पर घूमने वाले बेलगाम मवेशियों के मामले में नगर पालिका के अधिकारियों ने अपने पिछले आश्वासन के बाद मैदान पर कोई परिणाम नहीं दिये। एक मौत के बाद सीएमओ ने आश्वासन दिया था कि जल्द ही इन मवेशियों के लिए अभियान चलाया जाएगा। लेकिन, लगता है कि उनके मातहत अधिकारी उनके आदेशों को गंभीरता से नहीं लग रहे और एक और बड़ी घटना होने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि इस मामले में सीएमओ ने कहा है कि होली के कारण मवेशी पकडऩे वाले नहीं आ रहे थे, सोमवार से शहर में इसका असर दिखाई देगा। इस दौरान पिछले एक पखवाड़े में तीन घटनाओं में चार लोग शिकार हुए हैं।


पहली घटना : 29 फरवरी, शनिवार
सड़कों पर मौत बन कर भटक रहे मवेशी का शिकार 29 फरवरी को न्यास कालोनी निवासी एक फल विक्रेता भजनलाल माधवानी पिता राधोमल माधवानी, 68 वर्ष हो गया। भजनलाल पर एक काले सांड ने हमला कर दिया जिससे उसकी मौत हो गयी। सिंधी समाज के सदस्य की इस तरह से दुखद मौत से समाज ने नगर प्रशासन के प्रति नाराजी जताते हुए मुख्य नगर पालिका अधिकारी सीपी राय को एक ज्ञापन देकर आवारा मवेशियों को शहर से बाहर करने की मांग की थी। सीएमओ ने बताया था कि नगर पालिका की एक टीम गठित कर दी है, जो आवारा मवेशियों को पकड़ रही है। हालांकि वह टीम उसके बाद फिर सड़क पर दिखाई नहीं दी।


दूसरी घटना : 4 मार्च, बुधवार
सड़क पर घूमने वाले मवेशियों में से एक गाय ने 4 मार्च, बुधवार की शाम करीब 6:30 बजे माहेश्वरी भवन के पास सूरजगंज निवासी एक बुजुर्ग को उठाकर पटक दिया। घटना में बुजुर्ग के सिर में तीन टांके आये थे। 4 मार्च की शाम बाजार से सामान लेकर अपने घर सूरजगंज साईंनाथ कुंज गली आ रहे धनसिंह पिता बाबूलाल मंसोरिया, 78 वर्ष को माहेश्वरी भवन के सामने मुख्य मार्ग पर एक काले रंग की गाय ने सींग मारकर पटक दिया। गाय के हमले के बाद वे समीप ही नाली में जा गिरे जिससे उनके सिर में चोट आयी। सूचना के बाद उनके परिजन और आसपास के लोगों ने उनको अस्पताल पहुंचाया जहां उनके सिर में तीन टांके आये थे।


तीसरी घटना : 13 मार्च, शुक्रवार
रेलवे से सेवानिवृत्त बूढ़ी माता के पास मालवीयगंज निवासी मोहनलाल यादव, उम्र लगभग 60 वर्ष, केसला गांव से दोपहर लगभग 12 बजे ज्यूपिटर गाड़ी से अपने घर वापस आ रहे थे कि तेरहवीं लाइन के पास एमजीएम कालेज कॉलेज रोड पर सड़कों पर विचरण कर रहे दो बेलगाम मवेशी की सड़क पर आपस में लड़ाई के शिकार हो गये। इस दुर्घटना में उनके बायें पैर के पंजे में गंभीर चोट आई है। स्थानीय लोगों ने किसी तरह उन्हें वहां से उठाया और परिजनों को सूचना दी। सूचना के बाद उनके पुत्र दीपक यादव ने उन्हें दयाल हॉस्पिटल लेकर आये। यहां जांच उपरांत डॉ. आर दयाल ने एक्सरे कर उनके पैर में फ्रैक्चर होना बताया है, उनका उपचार जारी है।


चौथी घटना : 13 मार्च, शुक्रवार
कमला नेहरु पार्क के पास बाजार में सड़क पर मदमस्त घूम रहे एक सांड ने बाजार आयी एक युवती को जोरदार टक्कर मार दी। अचानक हुई घटना में युवती बुरी तरह से घबरा गयी। इस दौरान बाजार में आये अन्य लोगों ने युवती को छांव में ले जाकर ढांढ़स बंधाया और सांड को वहां से भगाया। युवती कौन थी, यह तो पता नहीं चला। लेकिन, वह बुरी तरह से घबरा गयी थी, जिसे अन्य लोगों ने संभाला। घटना में युवती को मामूली चोट आयी है। इस तरह की घटनाएं बाजार में अब आम बात हो चली है। नगर पालिका के जिम्मेदार अधिकारियों को मामले में गंभीरता से ध्यान देकर सड़कों से इन मवेशियों को जल्द से जल्द हटाकर जंगल या कांजी हाउस में भेजना चाहिए।

इनका कहना है…!
दरअसल, होली त्योहार होने के कारण मवेशियों को पकडऩे वाली टीम उपलब्ध नहीं हो पा रही थी। होली के बाद उन्होंने अभियान के लिए आश्वस्त किया था। सोमवार को थाने में सूचना के बाद हम रात के वक्त यह अभियान चलाएंगे ताकि दिन की भीड़ में मवेशियों को पकडऩे के दौरान भगदड़ की स्थिति न बने।
सीपी राय, सीएमओ नपा

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: