फारेस्ट प्लस के विरोध में आयी पूरी जनपद

जनप्रतिनिधियों ने दिया जांच का आवेदन

जनप्रतिनिधियों ने दिया जांच का आवेदन
इटारसी। केसला के जंगलों में काम कर रही संस्था फारेस्ट प्लस (पार्टनरशिप फॉर लैंड यूज़ साइंस) के विरोध में केसला जनपद के सारे जनप्रतिनिधि आ गए हैं। आज केसला जनपद अध्यक्ष, सभी सदस्यों, सांसद प्रतिनिधि ने केसला थाने में इस संस्था के विरोध में एक आवेदन देकर संस्था की वैधता की जांच करने की मांग की है।
जनपद के समस्त जनप्रतिनिधियों का मानना है कि यह विदेशी एनजीओ के सदस्य बिना रोकटोक केसला ब्लाक के प्रूफ रेंज, डेम एरिया में घूमते और फोटोग्राफी करते रहते हैं, जो देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है। एनजीओ प्रचार-प्रसार में पोस्टरों का इस्तेमाल कर रहा है और इन पोस्टरों में अमेरिकी नागरिकों के सहयोग से कार्य करना बताता है। ये मप्र शासन और भारत सरकार के प्रतीक चिन्हों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इनके विषय में कोई जानकारी स्थानीय अधिकारियों को नहीं है। इनकी वैधता के विषय में कोई नहीं जानता है, ये सुरक्षा की अनदेखी करके अतिसंवेदनशील क्षेत्र ताकू रेंज और डेम के आसपास की फोटोग्राफी करते रहते हैं। इनका कार्यक्षेत्र मोरपानी और गोमती तक बेहद संदेहास्पद है। जनपद सदस्यों ने थाना प्रभारी के नाम दिए ज्ञापन में इस एनजीओ की वैधता और कार्यों की जांच करने की मांग की है।
अभियान के तहत बैठक हुई
केसला जनपद पंचायत में आज ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के विषय में सदस्यों को विस्तार ने प्रशिक्षण में जानकारी प्रदान की गई। भारत उदय से ग्रामोदय अभियान 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती के अवसर पर प्रारंभ होकर 2 मई तक लगातार चलेगा। बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना, नल-जल योजना तथा अन्य कई महत्वपूर्ण विषय पर सदस्यों को जानकारी प्रदान की गई।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: