बिजली के दाम बढ़ाने की याचिका पर आप को आपत्ति

बिजली के दाम बढ़ाने की याचिका पर आप को आपत्ति

विद्युत वितरण कंपनी के डीई को आम आदमी पार्टी नेताओं ने सौंपा ज्ञापन
इटारसी। आम आदमी पार्टी को विद्युत के दाम बढ़ाने की याचिका पर घोर आपत्ति है और पार्टी नेताओं ने सारी दलीलों के साथ आज कंपनी के डीई समीर शर्मा को उनके आफिस में जाकर ज्ञापन सौंपकर अपनी आपत्ति भी दर्ज करायी है।
आप नेताओं ने कहा है कि दायर वित्त वर्ष 2017-18 की बिजली दर वृद्धि की याचिका में घरेलू एवं कृषि सहित सहित श्रेणी के उपभोक्ताओं के लिए बिजली की दरों में औसत 1 फीसदी वृद्धि की मांग की गई है जिसका हम विरोध करते हैं।
ये दिए विरोध के पक्ष में आंकड़े
वर्तमान में प्रदेश की बिजली की दरें अन्य राज्यों से अधिक हैं। दिल्ली में सामान्य उपभोक्ता को 200 यूनिट पर मात्र 462 रुपए का बिल देना होता है वहीं मप्र में यह राशि 1272 रुपए हैं जिसे बढ़ाकर 14 सौ रुपए करने का प्रस्ताव है। 4 सौ यूनिट पर दिल्ली में 13 सौ देना होता है जबकि मप्र में 3200 रुपए देा पड़ता है।
प्रदेश में प्राकृतिक संसाधन, खनिज, जल, जमीन की पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद महंगी बिजली का एकमात्र का कारण इस क्षेऋ में कुप्रबंधन और भ्रष्टाचार है, यदि यह खत्म हो जाए तो बिजली की दरें आधी हो जाएंगी।
मप्र में वर्तमान में कुल विद्युत उत्पादन क्षमता 17500 मेगावाट है और अधिकतम आपूर्ति 11421 मेगावाट ही दर्ज की गई है। औसत आपूर्ति सहायक यंत्रों की खपत समाहित करते हुए मात्र 8000 मेगावाट है जो कुप्रबंधन और भ्रष्टाचार का उदाहरण है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: