राम राज्य की हो रही शुरुआत : आचार्य प्रवर महेंद्र मिश्र

श्री राम जन्म महोत्सव समिति का 54वें वर्ष का आयोजन प्रारंभ

श्री राम जन्म महोत्सव समिति का 54वें वर्ष का आयोजन प्रारंभ
इटारसी। मैं व्यास पीठ से कह रहा हूं मुझे ऐसे संकेत मिलते दिखाई देते हैं कि अब भारत में राम राज्य की शुरुआत जल्द होने वाली है। इतना ही नहीं अब अन्य समुदाय और जाति के लोग भी राम राज्य की शुरुआत में अपनी पूर्णाहुति दे चुके हैं। आने वाले समय में यह कहा जा सकता है कि भारत वापिस राम राज्य की ओर लौटेगा। आचार्य प्रवर महेंद्र मिश्र श्रीराम जन्म महोत्सव समिति के तुलसी चौक स्थित श्री द्वारिकाधीश बड़ा मंदिर के परिसर में आयोजित श्रीराम कथा के अवसर पर व्यास पीठ से श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे।
श्री मिश्र ने कहा कि अयोध्यापति चक्रवर्ती सम्राट राजा दशरथ को कोई संतान नहीं थी। गुरु की बात मानकर उन्होंने हवन कराया और हवन का हविष्यान पीने से रानियों ने पुत्रों को जन्म दिया। उन्होंने कहा कि गुरु की बात मान लेने से जीवन में कई बार वो लाभ प्राप्त होता है जिसके लिए व्यक्ति पूरा जीवन अपेक्षा में जीता है। श्री मिश्र ने कहा कि इस कलयुग में राम राज्य की शुरुआत की बात मैं इसलिए कर रहा हूं कि परिवर्तन प्रकृति का नियम है और देश के हालातों में जो कुछ भी परिवर्तन हुआ उसमें प्रकृति ने मानसिकता बदली।
प्रारंभ में कलाकारों ने हनुमान चालीसा का पाठ किया। समिति के कार्यकारी अध्यक्ष जसवीर सिंह छाबड़ा एवं शोभायात्रा संयोजक संजय खंडेलवाल चीनी एवं वरिष्ठ कर्मकांडी ब्राह्मण मधुकर शास्त्री ने पूज्य महाराज श्री का पुष्पहार से स्वागत किया। आयोजन में जयकिशोर चौधरी एवं विनायक दुबे ने संचालक का दायित्व निभाया।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: