शिवपुराण में सुनाई समुद्र मंथन की कथा

शिवपुराण में सुनाई समुद्र मंथन की कथा

इटारसी। आवाम नगर के पशुपतिनाथधाम मंदिर परिसर में शिव महापुराण के तृतीय दिवस कथा के यजमान मेहरबान सिंह चौहान एवं श्रीमती शमा चौहान ने आचार्य पं. मधुसूदन शास्त्री को व्यासपीठ पर विराजित कराया। शिव महापुराण की कथा को विस्तार देते हुए तृतीय दिवस आचार्य पं. मधुसूदन शास्त्री ने समुद्र मंथन की कथा सुनाई। आचार्य मधुसूदन शास्त्री ने कहा कि समुद्र मंथन के लिए देवता और दैत्य तैयार हुए। अमृत की प्राप्ति के लिए मंथन हुआ। अमृत देवता ले गए। जहर भगवान शंकर ने पिया, कामधेनू गाय ऋषियों ने रख ली, घोडे को दैत्यराज बलि ने रखा, एरावत हाथी को इंद्र ने गृहण किया, कोस्तुभ मणि को भगवान विष्णु ने प्राप्त किया और समुद्र मंथन से लक्ष्मी निकली उसने भगवान विष्णु को अपना पति बना लिया। इस तरह समुद्र मंथन की कथा को विस्तार से आचार्य शास्त्री ने समझाया।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: