सावन का पहला दिन : शिवालयों में गूंजा हर-हर महादेव

सावन का पहला दिन : शिवालयों में गूंजा हर-हर महादेव

इटारसी। सावन के पहले सोमवार को शिवलायों में शिव भक्तों की आस्था का सैलाब उमड़ा पड़ा। सुबह से ही शिव मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहा। शिवालयों में महिलाओं व युवतियों की अधिक भीड़ उमड़ी।
शहर के सभी शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की कतारें लगी रहीं। कहीं जलाभिषेक तो कहीं दुग्धाभिषेक का दौर चला। सुबह से ही शिव मंदिरों में बाबा भोले के भक्त दूध, मिश्री, प्रसाद, जल, बेलपत्र लेकर पहुंचे। शिव का पसंदीदा स्थान सतपुड़ा पर भी भक्तों की आमद रही। तिलकसिंदूर और शरददेव में भक्तों ने नर्मदा जल ले जाकर भगवान का जल अभिषेक किया।
श्रावण मास के प्रारंभ होते ही पहले ही सोमवार को कावडिय़ों का नर्मदा जल लाने को सिलसिला भी शुरु हो गया है। सैकड़ों भक्तों ने होशंगाबाद से नर्मदा जल कावड़ में भरकर इटारसी आए और यहां से तिलकसिंदूर और शरददेव की पहाड़ी पर स्थित शिव मंदिरों में जल अभिषेक किया। शरद देव की पहाड़ी पर स्थित शिवालय में भगवान शिव का नर्मदाजल से अभिषेक करने पहुंचे। सुबह 5 बजे होशंगाबाद से नर्मदा जल लेकर भक्तों ने पैदल यात्रा शुरू की थी. कावड़ यात्रा का रास्ते में पवारखेड़ा, रैसलपुर, खेड़ा, पुरानी इटारसी शनि मंदिर पर स्वागत किया।
कांवरियों का स्वागत
श्रावण मास के प्रथम सोमवार को होशंगाबाद से नर्मदा जल लेकर आ लेकर आ रहे कांवरियों का स्थानीय जयस्तंभ चौक पर होटल संचालक कल्लू शेट्टी और उनके साथियों ने मालाओं से स्वागत किया। बम-बम भोले के जयकारों के साथ सभी कांवडिय़ों को तिलक सिंदूर रवाना किया। भक्तों ने तिलकसिंदूर के गुफा मंदिर में जाकर भगवान का नर्मदा जल से अभिषेक किया।
खुशहाली की कामना
सावन मास में भगवान शिव की पूजा कर सैकड़ों श्रद्धालुओं ने अपने और अपने परिजनों की खुशहाली की कामना कर रहे हैं। महिलाओं ने सौभाग्यवती रहने व कुंवारी कन्याओं ने योग्य वर की प्राप्ति की कामना की। ग्रामीण क्षेत्रों से भी लोग शिव मंदिर में दर्शन के लिए आ रहे हैं। सावन में सोमवारी शिवभक्तों के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण दिन होता है। सुबह से मंदिरों में जलार्पण के लिए भक्तों का तांता लगा और मंदिरों में हर-हर महादेव की गूंज चहुंओर सुनाई दे रही थी।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: