सोलह साल की पुलिस में नौकरी, फिर बन गया चोर

सोलह साल की पुलिस में नौकरी, फिर बन गया चोर

इटारसी। जीआरपी ने हरियाणा के जिस सांसी गिरोह को 11 लाख रुपए के माल के साथ गिरफ्तार किया है, उसका एक सदस्य अशोक कुमार पूर्व में हरियाणा पुलिस में कांस्टेबल था। इसने 16 साल हरियाणा पुलिस में नौकरी की है। इसे सांसी गिरोह का पक्षधर होने के कारण नौकरी से हटाया दिया गया है। इसके बाद यह भी गिरोह में शामिल होकर ट्रेनों में चोरी करने लगा। यह जानकारी आज दोपहर यहां जीआरपी कार्यालय में डीएसपी अनिल सोनकर ने दी। इस मौके पर जीआरपी थाना प्रभारी बीएस चौहान भी मौजूद थे।
गिरोह को आकस्मिक छापामार कार्रवाई के दौरान पकड़ा गया है। प्रदेश में इस तरह का अभियान जीआरपी चला रही है जिसमें ट्रेन को दोनों ओर से टारगेट करके चेक करते हैं। जीआरपी के इटारसी स्टाफ ने काशी एक्सप्रेस को टारगेट किया था जिसमें यह गिरोह हाथ आ गया। इटारसी स्टेशन पर काम्बिंग करने के दौरान जनरल कोच में ये सभी थे। ये लोग उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र में अपराध करना पसंद करते हैं जहां साफ्ट टारगेट होता है। जीआरपी ने इनसे पांच मामलों के करीब 11 लाख रुपए का माल बरामद किया है जिसमें एक मामला भोपाल का भी है। जीआरपी ने उनको साथ ले जाकर हरियाणा के जींद और हिसार जिले से चोरी का माल जब्त किया है। यह पूरा गिरोह इटारसी में पहली बार पकड़ा गया है, इनका यहां चोरी का कोई रिकार्ड नहीं है।
इनका यही एकमात्र धंधा
सांसी समुदाय के ये लोग चोरी से ही धनवान हो गए हैं। आलीशान मकानों में आधुनिक जीवन जीने वाले गिरोह के सदस्य जब हरियाणा से निकलते हैं तो काम पर जाने का कहकर निकलते हैं और एक से डेढ़ माह तक बाहर रहते हैं। घर से निकलते वक्त इनके पास एक से डेढ़ लाख रुपए होते हैं जो इनके खर्च के काम आता है। चोरी के बाद ये केवल नगद और जेबर ही अपने पास रखते हैं, मोबाइल या अन्य सामान फैंक देते या नष्ट कर देते हैं।
पैरवी करने वाले आते हैं प्लेन से
जब यह गिरोह पकड़ा जाता है तो इनकी पैरवी करने के लिए इनके गांव से रसूखदार लोग वकील को लेकर आते हैं तो वे ट्रेन से नहीं आकर प्लेन से भोपाल आते हैं। भोपाल से इटारसी का सफर प्रायवेट वाहन या ट्रेन से करते हंै। इनके घरों में पांच-पांच एसी होते हैं। चोरी से इतना पैसा कमा लेते हैं कि कोई अन्य धंधा इनको सूझता ही नहीं है। गिरोह के सदस्य शातिर इतने होते हैं कि पुलिस को इनसे चोरी कबूल कराना और माल जब्ती कार्य मुश्किल होता है।
इनको किया है गिरफ्तार
सत्यवान सांसी पिता पूरन सिंह 42 वर्ष ग्राम धरमखेड़ी थाना नारनौद, तहसील हांसी जिला हिसार हरियाणा, बलिन्दर उर्फ विरेन्दर सांसी पिता बलवीर 33 वर्ष निवासी धमतान साहिब, थाना गड़ी, तहसील नरवाड़ा जिला जींद हरियाणा, अशोक कुमार पिता दीपचंद उर्फ दिप्पा सांसी 46 साल निवासी लोहाचव थाना सदर जींद तहसील जींद जिला जींद हरियाणा, संजीव कुमार उर्फ रणवीर सांसी पिता हवा सिंह 41 साल निवासी ग्राम भाटोल रागडन तहसील हांसी थाना वास, जिला हिसार हरियाणा, राजेश पिता हरिसिंह 33 वर्ष निवासी ग्राम भाटोल रागडन (खरखड़ा) थाना हांसी (वास) जिला हिसार हरियाणा।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: