हमको किसी का डर नहीं, कोई जोर किसी का हम पर नहीं

इटारसी। भोपाल से बैठकर सीसीटीवी कैमरों की मदद से इटारसी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर नज़र रखने का दावा करने वाले रेलवे के मंडल मुख्यालय पर बैठे अफसरों के दावों में कितना दम है, यह प्लेटफार्म पर बेखौ$फ गुलाब जामुन, आईसक्रीम और अन्य खाद्य सामग्री बेचने वाले अवैध वेंडरों की मौजूदगी से ही पता चलता है। तस्वीरें साफ बता रही हैं कि रेल अफसरों के दावों में या तो दम नहीं है, या फिर उनकी ही शह पर यह सारा खेल खेला जाता है और जब उनका इटारसी निरीक्षण का दिन होता है, तो ये अवैध वेंडर यहां से नदारत हो जाते हैं, या फिर कर दिए जाते हैं।
दरअसल, इटारसी रेलवे स्टेशन अवैध वेंडरों के लिए कुख्यात है और स्पष्ट कहा भी जाता है कि यहां आरपीएफ की मिली भगत से सब कुछ चलता है। कतिपय रेलवे खानपान ठेकेदारों के ही अवैध वेंडर भी चलते हैं और आरपीएफ को चुप्पी साधे रहने के लिए साधा जाता है। इन चर्चाओं को बल तब भी मिलता है जब प्लेटफार्म एक पर जहां स्टेशन अधीक्षक, स्टेशन उप अधीक्षक के कार्यालय तो हैं ही, आरपीएफ थाना भी यहीं है और इस प्लेटर्फ पर बेखौ$फ सैंकड़ों की संख्या में अवैध वेंडर प्रतिबंधित चीजों को भी बेचते हैं और नियम के विरुद्ध खानपान कारोबार भी फलता-फूलता है। रेलवे के अधिकारियों के सामने ही सबकुछ चलता है, यहां। ठेकेदारों के कर्मचारी ही यह सारा अवैध कारोबार करते हैं और उनके कतिपय मैनेजर रेल अधिकारियों के और अवैध वेंडरों की बीच मध्यस्थता का कार्य करते हैं। आज भी यह खेल बदस्तूर चल रहा है, और भोपाल मंडल और जबलपुर जोन मुख्यालय में बैठे अफसरों के दावों की पोल खोल रहा है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: