1 करोड़ 97 लाख की हो चुकी है मंजूरी

नारकीय जीवन से बाहर आयेंगे जीआरपी कालोनीवासी

नारकीय जीवन से बाहर आयेंगे जीआरपी कालोनीवासी
इटारसी। एमजीएम कालेज के पास स्थित जीआरपी कालोनी के दुर्दिन जल्द ही खत्म होने वाले हैं। कालोनी की दशा सुधारने के लिए मप्र प्रदेश पुलिस हाउसिंग से करीब दो करोड़ रुपए की मंजूरी मिल गई और इसके टेंडर भी हो चुके हैं। संभवत: अगले माह से इसका काम भी शुरु हो जाएगा। यह जानकारी आज शाम यहां पहुंचे जीआरपी के एडीजीपी ने दी।
एडीजीपी रेल जीपी सिंह ने बताया कि उन्हें यहां जीआरपी कालोनी की दशा पता है। इसकी दशा सुधारने लिए लंबे समय से प्रयास चल रहे थे और इसमें सफलता मिल गई है। कालोनी की दशा सुधारने का काम शुरु होने के बाद अब करीब दो दशक से नारकीय जीवन जी रहे यहां के जीआरपी जवानों को इससे मुक्ति मिलेगी।
ड्रेनेज बड़ी समस्या
एमजीएम कालेज के पास बनी जीआरपी कालोनी की दशा करीब दो दशक से खराब है। इसमें सबसे बड़ी समस्या यहां का खराब ड्रेनेज सिस्टम है। जिस वक्त कालोनी का निर्माण हुआ था, उसके कुछ वर्ष के बाद ही यहां का ड्रेनेज सिस्टम खराब हो गया था और हालात इतने खराब हो गए हैं कि यहां सीवेज का पानी कालोनी के निचले तल में रहने वालों के घरों में घुसता है। कालोनी में नालियों का पूर्णत: अभाव है जिससे यहां गंदगी हर वक्त रहती है और जीआरपी जवानों के परिवारों पर हमेशा विभिन्न बीमारियों का खतरा मंडराता रहता है। करीब दो करोड़ की राशि से अब इस समस्या से यहां के निवासियों को मुक्ति मिल जाएगी।
यहां लगेगी संपूर्ण राशि
मप्र पुलिस हाउसिंग से मिलने वाली राशि यहां का संपूर्ण सेनीटेशन सिस्टम को सुधारा जाएगा। डे्रनेज सिस्टम में सुधार, नालियों का निर्माण, सफाई व्यवस्था के अलावा कालोनी के मकानों में विभिन्न मरम्मत कार्य कराए जाएंगे। एक खास बात यह है कि यहां दूषित जल की निकासी नहीं होने से हमेशा पानी भूतल में जमा रहता है। इसी पानी में जल और मल मिलता है जो गंदगी और बीमारियों का कारण बनता है। इस पैसे से जीआरपी कालोनी में एक पंपिंग स्टेशन भी बनाया जाएगा जो इस गंदे पानी की निकासी करेगा। पंपिंग स्टेशन के माध्यम से इस पानी को पंप के जरिए निकाला जाएगा जिससे यहां की गंदगी खत्म करने में मदद मिलेगी।
बैरिक अगली बार सुधारेंगे
जीआरपी जवानों के बैरिक की हालत भी काफी खस्ताहाल है। इसकी जानकारी एडीजीपी श्री सिंह के संज्ञान में लाने पर उन्होंने कहा कि इसके लिए अगले बजट में पैसा मिलने पर कार्य कराया जाएगा। श्री सिंह ने कहा कि वित्त मंत्रालय से जीआरपी को पैसा मिलने में दिक्कत होती है। यही कारण है कि हमारे यहां काम होने में देरी होती है। इस बार कालोनी के लिए पैसा मंजूर हो गया है, अगली बार जब भी पैसा मिलेगा, बैरिक की हालत में सुधार का कार्य कराया जाएगा। श्री सिंह ने बताया कि उन्हें यहां के हालात की पूरी जानकारी है और उनमें सुधार के लिए विभागीय स्तर पर कार्य चल रहा है, जल्द परिणाम दिखाई देंगे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: