मुख्यमंत्री कन्या विवाह निरस्त, जनसहयोग से 102 जोड़ों के विवाह कराये

मुख्यमंत्री कन्या विवाह निरस्त, जनसहयोग से 102 जोड़ों के विवाह कराये

– सिवनी मालवा में 14 और भीलट देव में 88 नवयुगल दाम्पत्य बंधन में बंधे
पत्रकार संघ, सर्व ब्राह्मण महिला संगठन, समाज सेवी संगठनों ने दिया सहयोग
सिवनी मालवा। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की आचार संहिता लगने के कारण मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (Chief Minister Kanyadan Yojana) का शासकीय कार्यक्रम निरस्त किया है। सामूहिक विवाह सम्मेलन (Mass Marriage Conference) रद्द होने की खबर मिलने पर पत्रकार संघ (Journalists Association), सामाजिक व स्वयं सेवी संगठनों (Voluntary Organizations) और समाजसेवियों ने सामूहिक विवाह सम्मेलन कराने का निश्चय किया। भीलट देव (Bhilat Dev) और सिवनी मालवा (Seoni Malwa) में जनसहयोग से सामूहिक विवाह सम्मेलन कराया। दोनों ही जगह के कार्यक्रम में शासकीय सहायता नहीं दी गयी। वही पिछले दिनों से तैयारी में लगे अधिकारी कर्मचारी भी शामिल नहीं हुए। गरीब जोड़ों की शादी जन सहयोग से कराई गई।
भीलट देव और सिवनी मालवा दोनों ही जगह पर शासन की ओर से मुख्यमंत्री कन्यादान योजना से सामूहिक विवाह सम्मेलन के लिए वर-वधु के पंजीयन कर लिए थे। शादी वाले परिवार में शादी से पहले होने वाली रस्मों को किया जा रहा था। आचार संहिता (Code of Conduct) की खबर मिलते ही परिवारों में असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई थी किंतु समाज के लोगों की पहल पर पंजीकृत वर वधु के परिवार को एक-एक करके मोबाईल (Mobile) पर सूचना दी गई कि शासन से मिलने वाली सुविधा का लाभ तो नहीं मिलेगा लेकिन बच्चों का सामूहिक विवाह सम्मेलन कराया जाएगा। अत: सभी यथा समय सामूहिक विवाह स्थल पर उपस्थित होवे। सूचना मिलते ही परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई और शादी के लिए की जा रही तैयारियां बिना रुके ही चलती रही। इस दौरान भीलट देव में 90 जोड़ों में से 88 जोड़ों का और सिवनी मालवा में 15 में से 14 जोड़ों का विवाह कराया गया। इस तरह 102 विवाह सूत्र में बंधे।
जनपद पंचायत सिवनी मालवा के सीईओ (CEO) दुर्गेश भूमरकर ने बताया कि पंचायत स्तर पर 90 जोड़ों का सामूहिक विवाह सम्मेलन के लिए पंजीयन किया था, जिनका मुख्यमंत्री कन्यादान योजना से भीलट देव प्रांगण से सामूहिक विवाह कराया जाना था। शासन के आदेश अनुसार कार्यक्रम को रद्द किया है। ततपश्चात भीलट देव में मध्य प्रदेश जांगड़ा समाज (Madhya Pradesh Jangra Samaj,) और आदिवासी सेवा समिति तिलक सिंदूर (Tribal Service Committee Tilak Sindoor) ने 88 जोड़ों के नि:शुल्क सामूहिक विवाह सम्मेलन से हिंदू रीति से विवाह संपन्न कराए। जिसमें प्रत्येक जोड़े को गृहस्थी के 5-5 बर्तन उपहार स्वरूप भेंट किए गए और विवाह प्रमाण पत्र दिए।
सिवनी मालवा के उत्कृष्ट विद्यालय प्रांगण में पत्रकार संघ के पत्रकार साथियों, सामाजिक संगठनों और समाज सेवियों ने 15 में से 14 जोड़ों के निशुल्क सामूहिक विवाह सम्मेलन हिंदू रीति रिवाज से संपन्न कराए। जिसमें कन्यादान में आस्था मंच ने पायल, बिछिया, मंगल सूत्र, सर्व ब्राह्मण समाज व महिला संगठन ने गादी, तकिया, चादर, रजाई, साड़ी और श्रृंगार सामग्री उपहार स्वरूप भेंट किए। हिमांशु राठी और आयुषी राठी ने सभी दुल्हनों को साड़ी भेंट की। पत्रकार संघ अध्यक्ष नंदकिशोर व्यास ने आभार व्यक्त करते हुए युगल दंपतियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए सहयोग प्रदान करने वालों का आभार व्यक्त किया।
ब्राह्मण महिला संगठन से रेखा शर्मा, ज्योति व्यास, सोनू पाठक, सरिता उपाध्याय, भावना पुरोहित, सुषमा अवस्थी, रचना शर्मा, ममता पुरोहित, ममता अवस्थी, अरुणा व्यास, अनन्या शर्मा, अनिता अवस्थी, अनिता मिश्रा, मिनी व्यास, रेखा पारीक, आस्था मंच से नीरू राठी, ज्योति व्यास, प्रीति गोयल, संध्या करोड़े, पम्मी ठाकुर, रुचि रघुवंशी, आयुषी राठी, पत्रकार विनीत राठी, राजू राठौर, शेखर बाथव, अरुण कश्यप, मनमोहन राठौर, विपिन मालवीय, ईश्वर विश्नोई सहित नगर की महिलाओं ने सामूहिक विवाह सम्मेलन में उपस्थिति देकर विवाह संपन्न कराएं। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना से सामूहिक विवाह सम्मेलन रद्द होने से नहीं मिल पाया लाभ।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!