Video : सीएम ने की नर्मदापुरम गौरव दिवस मनाने की घोषणा

Video : सीएम ने की नर्मदापुरम गौरव दिवस मनाने की घोषणा

– मुख्यमंत्री ने होशंगाबाद का नामकरण ’’नर्मदापुरम’ किया
नर्मदापुरम। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नागरिकों से अपील की है कि वे जहां रहते हैं उस गांव व शहर का गौरव दिवस जरूर मनायें। गौरव दिवस किस तिथि को मनाना है यह सर्व सम्मति से तय किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदापुरम् के सेठानी घाट पर होशंगाबाद का नामकरण ‘नर्मदापुरम’ करने के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बाबई का नामकरण माखननगर करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि आज उनका वर्षों पुराना संकल्प पूरा हुआ है और सभी नागरिकों को सपना साकर हुआ है। उन्होने कहा कि अब संभाग के साथ-साथ जिला व शहर का नाम भी नर्मदापुरम हो गया है।

आज सेठानी घाट पर माघ शुक्ल सप्तमी नर्मदा जयंती पर अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ मां नर्मदा का अभिषेक पूजन एवं आरती की। इस अवसर पर सांसद उदय प्रताप सिंह, विधायक डॉ सीतासरन शर्मा, सोहागपुर विधायक विजय पाल सिंह, पिपरिया विधायक ठाकुर दास नागवंशी, सिवनीमालवा विधायक प्रेमशंकर वर्मा, मप्र खादी ग्रामोघोग बोर्ड के अध्यक्ष जीतेंद्र लिटोरिया, म.प्र. सामान्य  वर्ग आयोग कल्याण के अध्यक्ष शिव चौबे, माया नारोलिया, दर्शन सिंह चौधरी, सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

प्राकृतिक खेती कर व पौधारोपण करें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मां नर्मदा का प्रदेश की सकल घरेलू उत्पाद अर्थात जीडीपी में 20 प्रतिशत योगदान है। नर्मदा से प्रदेश के दर्जन भर से अधिक जिलों में पेयजल व सिंचाई का जल मिल रहा है, वहीं प्रदेश में विधुत उत्पादन में भी में महत्वपूर्ण योगदान है। हम नर्मदा तट वासियों का भी कर्तव्य है कि प्राकृतिक खेती करें क्योंकि खेतों में रसायनिक उर्वरकों के प्रयोग से नर्मदा प्रदूषित हो रही है।
विशेष अवसरों पर पौधा अवश्य लगाएं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गत एक वर्ष से वे नियमित रूप से प्रतिदिन पौधा रोपण कर रहे हैं। नर्मदा तट के सभी निवासी प्रतिदिन न करें तो कम से कम घर में जन्म दिन व शार्दी की वर्षगांठ जैसे- खुशियें के अवसर पर पौधा अवश्य लगायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उपस्थित नागरिकों को पौधा रोपण व प्रकृतिक खेती संकल्प दिलाया।
नर्मदा एक्सप्रेस वे से विकास के द्वार खुलेंगे
 
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नर्मदा के उद्गम अमरकंटक से लेकर गुजरात तट तक नर्मदा एक्सप्रेस वे बनाया जा रहा है। इस मार्ग के दोनों और उद्योग स्थापित किये जायेंगे। नर्मदा एक्सप्रेस से विकास के नए द्वार खुलेंगे।
विधायक डॉ. शर्मा ने कहा कि हम कृतज्ञ हैं
 
विधायक डा सीतासरन शर्मा ने कहा, मुख्यमंत्री ने हमारे क्षेत्र के लिए बहुत कुछ दिया है। शहर का नाम नर्मदापुरम नाम किया है, हम उनके प्रति कृतज्ञ हैं। 7 करोड़ दिए थे जिससे सेठानी घाट की खोह भरवाई है। 100 वर्ष के लिए सुरक्षित हो गया है। रसूलिया का ओवर ब्रिज बनकर तैयार हो गया। सीएम राइज स्कूल दिया है। भौतिक उन्नति करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। दशहरा मैदान का भी डीपीआर बन चुकी है। इटारसी में बस स्टेंड और सब्जी मंडी भी तैयार हो रही है। भौतिक उन्नति के साथ सांस्कृतिक विरासत के रूप में गौरव आपने दिया है। मां नर्मदा की कृपा से कृत-कृत हुए हैं। क्षेत्र में अनेक पुलों का निर्माण मुख्यमंत्री ने कराया है।
विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी
 
सांसद राव उदय प्रताप ने कहा कि यह ऐतिहासिक अवसर है। शहर की पृष्ठभूमि मां नर्मदा के प्रति जो भाव था उसके अनुरूप नर्मदापुरम नाम करने में मुख्यमंत्री ने विशेषयोग दान दिया है। मुख्यमंत्री ने 1700 करोड़ की सिंचाई की परियोजना दी है, डीपीआर बन रही है। मुख्यमंत्री ने संसदीय क्षेत्र में इतने पुल बनवा दिए जितने पूरे मप्र में नहीं बने।
नर्मदा जयंती की झलकियां
 
-मुख्यमंत्री के मंच पर आते ही नर्मदेहर के जयघोष के साथ आतिशबाजी शुरू हो गई।
-मंच के सामने बार-बार शंख बज रहे थे।
-मंच के पास धन्यवाद आभार के पोस्टर लेकर शहरवासी मुख्यमंत्री को धन्यवाद दे रहे थे।
– सुरवाणी संस्था और वीणापाणि संस्था के द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी गई।
-जल मंच के पास फब्बारा का रंग तिरंगा होने पर आकरर्षित कर रहे थे।
-आचार्य पं सोमेश परसाई ने पूजन के दौरान कहा कि नर्मदापुरम के वासी हैं यही हमारी काशी है।
– मां नर्मदा के जन्मोत्सव पर जगमगाए घाट और जलधारा, अलौकिक हुआ नर्मदापुरम का नजारा
– होशंगाबाद का नाम नर्मदापुरम नाम होने पर जिले वासियों ने मुख्यमंत्री का जताया आभार
दोगुनी खुशी के साथ मनाई जयंती
 
नर्मदा जयंती महोत्सव का मुख्य समारोह सेठानी घाट पर आयोजित गया। लेकिन यह महोत्सव सिर्फ घाट का ही महोत्सव नहीं रहा। घर-घर का महोत्सव बन गया। इस बार की नर्मदा जयंती पर जिलेवासियों में दोगुनी खुशी का माहौल था। एक तो नर्मदा जयंती की खुशी और दूसरी होशंगाबाद का नाम नर्मदापुरम होने की खुशी। नर्मदा जयंती महोत्सव उमंग, उल्लास और उत्साह के साथ मनाया गया। नर्मदापुरम वासियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति दिल से आभार व्यक्त किया। जन्मोत्सव पर मां नर्मदा के तट के प्रमुख घाटों पर विशेष विद्युत साज सज्जा की गई जिससे रंग बिरंगी रोशनी से घाट जगमग हो रहे थे। बड़ी संख्या में दीपदान किया गया।
चार स्थानों से सीधा प्रसारण
 
नर्मदा जयंती के मुख्य कार्यक्रम का सीधा प्रसारण शहर के चार प्रमुख स्थानों पर्यटन घाट, इंदिरा चौक, जय स्तंभ और सतरस्ता पर एलईडी लगाई गई। जहां से लोगों ने जलमंच तथा सेठानी घाट पर हो रहे कार्यक्रम का आनंद लिया।
घाटों पर सजाए गए विशेष द्वार
 
सेठानी घाट पर विशेष द्वार तैयार किया। पर्यटन घाट कोरी घाट के साथ ही सर्किट हाउस घाट पर भी द्वार सजाए। यहां पर तोरण द्वार लगाए गए। फूलों की मालाओं से भी सजावट की गई।
दोपहर में मना जन्मोत्सव
 
सुबह के समय नर्मदा जी की पूजन अर्चन की गई उसके बाद दोपहर में नर्मदा तट के सेठानी घाट, मोरछली चौक के नर्मदा मंदिरों में मां नर्मदा की आरती की गई। नर्मदाष्टक का सामूहिक पाठ किया गया। इसी तरह नित्य आरती स्थल पर पूजन अर्चन कर जन्मोत्सव मनाया गया।
निर्झरणी महोत्सव ने समां बांधा
 
जन्मोत्सव व पूजन अर्चन के बाद सेठानी घाट के भरत मिलाप फर्श पर सांस्कृतिक संध्या के तहत निर्झरणी महोत्सव ने समां बांध दिया। घाट पर मौजूद दर्शकों का मन मोह लिया। पवित्र मां नर्मदा के प्रति धन्यता के इस निर्झरणी महोत्सव का आयोजन मध्यप्रदेश शासन के संस्कृति विभाग के तत्वावधान में जिला प्रशासन व नगर पालिका के सहयोग से किया गया। इस कार्यक्रम में सुश्री लता सिंह मुंशी एवं साथी द्वारा नर्मदा नृत्य-नाटिकाओं की आकर्षक प्रस्तुति की गई जिसमें  कपिल शर्मा एवं साथी द्वारा नृत्य-नाटिका के साथ ही गायन की प्रस्तुति दी गई जिसे दर्शकों ने खूब सराहा।

 

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!