वायुदूत ऐप के माध्यम से आप कर सकते हैं ये नेक काम

वायुदूत ऐप के माध्यम से आप कर सकते हैं ये नेक काम

नर्मदापुरम। आवोहवा को बेहतर बनाने का काम आपके हाथ में है। यह बड़ा छोटा सा, लेकिन बहुत महत्वपूर्ण काम है जो आप करके न सिर्फ स्वयं के लिए बल्कि मानवता के लिए बड़ा अहसान कर सकते हैं। इस काम को करने के बाद आप उसे वायुदूत एप (vayudoot app) पर डाउनलोड (download) करते हैं। दरअसल यह काम पर्यावरण सुधार से संबंधित है।

, ,
, , , , , , , ,

कोरोनाकाल में हमने सबसे अधिक कोई चीज की कमी महसूस की और उसके नहीं मिलने से बड़ा नुकसान उठाया है, वह है ऑक्सीजन (Oxygen)। ऑक्सीजन के लिए हमें वृक्षों की बहुत जरूरत है। यदि आप पौधरोपण करेंगे तो यह न सिर्फ आपके बल्कि मानवता के लिए बहुत काम आएगा। इसे अभियान के तौर पर लेकर शासन इस दिशा में बढ़ रहा है और आपसे भी यही अपेक्षा है कि आप शासन के इस कदम में हमकदम बनें।
शासन द्वारा 1 मार्च से 5 मार्च तक पौधरोपण महाअभियान चलाया जा रहा है, लेकिन पौधरोपण केवल शासकीय कार्य नहीं है। यह सामाजिक दायित्व है। अत: यह अनिवार्य है कि न केवल सभी अधिक से अधिक पौधे लगायें साथ ही उनकी उत्तरजीवित्ता भी सुनिश्चित करें। यह बात मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत नर्मदापुरम मनोज सरियाम (Chief Executive Officer District Panchayat Narmadapuram Manoj Sariam) ने पौधरोपण के संबंध में विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, शासकीय व निजी स्कूलों के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में कही गई।
ज्ञात हो कि जिला कलेक्टर नीरज कुमार सिंह (Collector Neeraj Kumar Singh) के निर्देशानुसार पौधारोपण महाअभियान में सभी की सहभागिता सुनिश्चित करने हेतु आयोजित बैठक में सीईओ जिला पंचायत मनोज सरियाम ने 1 से 5 मार्च तक चलाये जा रहे पौधरोपण महाअभियान सहित जिले की विभिन्न नर्सरियों (Nurseries) में उपलब्ध पौधों की जानकारी दी। यह भी जानकारी दी कि पौधों को किस प्रकार रोपित करें, गड्ढों की साइज क्या हो, पौधों से पौधों की दूरी कितनी हो, पौधों की उत्तरजीवित्ता हेतु क्या प्रयास किये जायें, यह भी बताया। सभी से आह्वान किया कि पौधरोपण कार्य 5 मार्च के बाद भी सतत रूप से जारी रखा जाये।
उन्होंने अंकुर अभियान, अंकुर पोर्टल (Ankur Portal) व वायूदूत एप की जानकारी देते हुए बताया कि जो भी पौधरोपण किया जाए वह वायुदूत एप पर अनिवार्यत: अपलोड किया जाए। बैठक में रागनी सिकरवार ने अंकुर अभियान का प्रस्तुतिकरण देकर बताया कि एंड्राइड मोबाइल (Android Mobile) के प्लेस्टोर (Playstore) से वायूदूत एप डाउनलोड करके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर (Registered Mobile Number) पर ओटीपी (OTP) प्राप्त कर रोपित किये जा रहे पौधों को पोर्टल पर दर्ज करायें। श्री सरियाम ने संस्थाओं के पदाधिकारियों से अपील की है कि वह स्वयं तो 1 मार्च से 5 मार्च तक पौधरोपण कर वायुदूत एप से पौधों को दर्ज करें साथ ही अपने परिवार, मित्र व पड़ोसियों से भी इस एप के माध्यम से पौधों को अपलोड करायें जिससे अधिक से अधिक लोगों में पौधरोपण के प्रति रुचि बढ़े।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!