नज़्म: तुम वस्ल का वादा तो करो

नज़्म: तुम वस्ल का वादा तो करो

तुम वस्ल का वादा तो करो,
हम हज़ार चिराग़ रोशन कर देंगे।

तुम एक ख़्वाब तो देखो, हम,
दयार-ए-ख़्वाब तुम्हारे नाम कर देंगे।

तुम दिल का फलक हमें दे दो,
हम इश्क को परवाज़ दे देंगे।

तुम इकरार के दो लफ़्ज़ कह दो,
हम एतबार-ए-दिल तुम्हें दे देंगे।

– वस्ल – मिलन
– दयार – ए – ख़्वाब – सपनों की जगह

अदिति टंडन(Aditi Tandan)
आगरा

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!