कविता: अजीब होती है दास्तां-ए-मोहब्बत…

कविता: अजीब होती है दास्तां-ए-मोहब्बत…

अजीब होती है दास्तां – ए – मोहब्बत,
कभी मुकम्मल तो कभी अधूरी।

कभी मुश्किलों का दरिया,
तो कभी सहजता से पूरी।

कभी इश्क की तमन्नाएं पूरी,
तो कभी अदावत बने मजबूरी।

कभी हो वस्ल – ए – यार तो,
कभी रहे जन्मों की दूरी।

अदिति टंडन (Aditi Tandan)
आगरा ( उ.प्र. )

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW